संजीवनी टुडे

नहीं थम रहा विश्व कप फाइनल का 'ओवरथ्रो विवाद', MCC उठा सकता है बड़ा कदम

संजीवनी टुडे 20-07-2019 22:50:32

कुमार धर्मसेना और मारियास इरैसमस ने लिया था फैसला


नई दिल्ली। न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बीच खेले गए आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 के फाइनल में हुए ‘ओवरथ्रो’ विवाद अभी भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब  क्रिकेट कानूनों के संरक्षक मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) इस नियम की समीक्षा कर सकती है।

‘द संडे टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘एमसीसी में एक विचार है कि जब अगली बार खेल के नियमों की समीक्षा हो तो ओवरथ्रो के नियमों पर ध्यान दिया जाए, जो इसकी उप-समिति की जिम्मेदारी है।

ु

फाइनल में इंग्लैंड को आखिरी ओवर में ओवरथ्रो से छह रन मिले। मार्टिन गुप्टिल का थ्रो बेन स्टोक्स के बल्ले से लगकर सीमा रेखा के पार चला गया था। इंग्लैंड ने मैच टाई कराया और फिर सुपर ओवर भी टाई छूटा जिसके बाद 'बाउंड्री गिनती की गई और इंग्लैंड चैंपियन बन गया।

कुमार धर्मसेना और मारियास इरैसमस ने लिया था फैसला
श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर और अब आईसीसी एलीट पैनल के अंपायर कुमार धर्मसेना और दक्षिण अफ्रीका के अंपायर मारियास इरैसमस विश्व कप फाइनल मुकाबले में मैदानी अंपायर थे। कुमार धर्मसेना और इरैसमस ने ही इंग्लैंड को छह रन दिए थे। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

हालांकि आईसीसी के पूर्व अंपायर साइमन टॉफेल ने कहा था कि यह बहुत खराब फैसला था। इंग्लैंड को पांच रन दिए जाने चाहिए थे छह रन नहीं। यह घटना मैच के अंतिम ओवर में हुई। टीवी रीप्ले से साफ लग रहा था कि आदिल राशिद और स्टोक्स ने तब दूसरा रन पूरा नहीं किया था जब गुप्टिल ने थ्रो किया था। लेकिन मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना और मारियास इरैसमस ने इंग्लैंड के खाते में छह रन जोड़ दिए। चार रन बाउंड्री के तथा दो रन जो बल्लेबाजों ने दौड़कर लिए थे।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From worldcup

Trending Now
Recommended