संजीवनी टुडे

औरत मार्च प्रतिबंध मामला : हाईकोर्ट ने पुलिस और FIA से मांगी प्रतिक्रिया

संजीवनी टुडे 27-02-2020 17:26:26

लाहौर हाईकोर्ट ने औरत मार्च के विरुद्ध दायर की गई याचिका पर गुरुवार को फेडरल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (एफआईएए) और पुलिस की प्रतिक्रिया मांगी है।


इस्लामाबाद। लाहौर हाईकोर्ट ने औरत मार्च के विरुद्ध दायर की गई याचिका पर गुरुवार को फेडरल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (एफआईएए) और पुलिस की प्रतिक्रिया मांगी है।

ये याचिका जूडिशियल एक्टीविज्म काउंसिल के अध्यक्ष अजहर सिद्दी ने दायर की है। याचिकाकर्ता सिद्दकी का कहना है कि सैकड़ों महिलाएं एक बार फिर से विभिन्न संदेशों को देते हुए अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर हाथों में तख्तियां लेकर मार्च निकालेंगी। यह कथित तौर पर अराजकता और असभ्यता दर्शाता है। 

याचिका में मार्च को इस्लाम के मानदंडों के खिलाफ बताया है और इसका एजेंडा अराजकता, अश्लीलता और नफरत फैलाना कहा गया है।जबकि इसके समर्थन में एकवोकेट हीना जलानी का कहना है कि यह मार्च समाज में महिलाओं की भूमिका को दर्शाने के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि पिछले साल का मार्च शांतिपूर्ण था।

गुरुवार को लाहौर हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस ने दोनों पक्षों को सुना और एफआईए और पुलिस की प्रतिक्रिया की माग करते हुए कहा है कि अभिव्यक्ति का स्वतंत्रता पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि पिछले साल 08 मार्च को पूरे पाकिस्तान की महिलाएं औरत मार्च में शामिल होने के लिए एक साथ आई थी।

यह खबर भी पढ़े: यूथ कांग्रेस ने मुख्यमंत्री को दिखाए काले झंडे, कई कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार

यह खबर भी पढ़े: नीरव मोदी के कीमती सामानों की नीलामी 5 मार्च तक स्‍थगित

मात्र 289/- प्रति sq. Feet में जयपुर में प्लॉट बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From world

Trending Now
Recommended