संजीवनी टुडे

पाकिस्तान से भागकर अमेरिका पहुंची इस महिला कार्यकर्ता ने खोली पाक की नापाक हरकतों की पोल, किये ऐसे खुलासें

संजीवनी टुडे 20-09-2019 22:49:06

इस्लामाबाद द्वारा गुलालाई इस्माइल पर राजद्रोह का आरोप लगाया गया था जिसके बाद वह पाकिस्तान छोड़कर अमेरिका भाग आई है।


वॉशिंगटन। पाकिस्तान में कथित राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिए देशद्रोह के आरोपों का सामना कर रहीं महिला कार्यकर्ता गुलालई इस्माइल का अमेरिका में होने का पता चला है। फिलहाल, इस्माइल ने अमेरिका में शरण ली हुई है। इस्माइल ने अमेरिका से राजनीतिक शरण देने की गुहार भी लगाई है। ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ में शुक्रवार को प्रकाशित रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

यह खबर भी पढ़े:गुनाह कबूल के करने बावजूद भी चिन्‍मयानंद पर नहीं लगाई गई रेप की धारा!, उल्टा लड़की पर दर्ज़ किया ऐसा मुकदमा

ये पाकिस्तान द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन को उजागर करने वाला एक और उदाहरण है। इस्लामाबाद द्वारा गुलालाई इस्माइल पर राजद्रोह का आरोप लगाया गया था जिसके बाद वह पाकिस्तान छोड़कर अमेरिका भाग आई है। इस्माइल ने पाकिस्तानी सुरक्षा बलों द्वारा यौन शोषण की घटनाओं को उजागर करने की कोशिश की थी। देश की महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों के खिलाफ गुलालाई द्वारा लगातार छेड़े गए विरोध-प्रदर्शनों की वजह से उसपर देशद्रोह के आरोप लगाए गए। महिला कार्यकर्ताओं के एक समूह ने इमरान खान को चिट्ठी लिखकर इस्माइल की सुरक्षा सुनिश्चित करने की अपील भी की थी। 

ु

न्यूयॉर्क टाइम्स ने बताया कि 32 वर्षीय इस्माइल पिछले महीने वहां से निकलने में कामयाब रही और अब वह अपनी बहन के साथ ब्रुकलिन में रह रही है। इस्माइल ने यूएसए में राजनीतिक शरण के लिए भी आवेदन किया है। गुलालाई ने कहा कि मैंने किसी भी हवाई अड्डे से बाहर उड़ान नहीं भरी। उन्होंने आगे कहा, वह इससे ज्यादा कुछ नहीं कह सकती, क्योंकि उसकी पाकिस्तान से निकलने की कहानी कई लोगों के जीवन को खतरे में डाल सकती है। 

पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यकों और महिलाओं के मानवाधिकारों के हनन के लिए वहां की सेना की हमेशा से आलोचना होती रही है। इस्माइल ने महिलाओं के अधिकारों की सुरक्षा के लिए सख्ती से लगातार अभियान चलाया, जिसमें सुरक्षाबलों द्वारा महिलाओं का यौन शोषण, गुमशुदगी और अन्य घटनाओं पर देश और दुनिया का ध्यान आकर्षित कराने में सफल रही। इस कारण से वह पाकिस्तान की सेना और सत्ताधारी दल की आंखों में चुभती रही थी।

ु

गुलालाई का कहना है कि उनपर लगाए गए देशद्रोह के आरोप एकदम गलत हैं। उसे सिर्फ इस वजह से निशाना बनाया जा रहा है, क्योंकि उसने सेना द्वारा जबरदस्ती किए जा रहे मानवाधिकारों के हनन को उजागर करने की कोशिश की। गुलालाई के पाकिस्तान से भागने की बात पाकिस्तान के इससे बुरे समय नहीं आ सकती, जब वह कश्मीर के मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने की कोशिश कर रहा है। न्यूयॉर्क के डेमोक्रेट सीनेटर चार्ल्स शूमर ने कहा कि गुलालई के शरण अनुरोध का समर्थन करने के लिए मैं वह सब कुछ करूंगा, क्योंकि ये साफ है कि उनका जीवन खतरे में पड़ जाएगा।

यह खबर भी पढ़े:चंद्रयान-2: लगातार टूटती जा रही है 'लैंडर विक्रम' से संपर्क की उम्मीदें, अब बचा है मात्र 1 दिन, जानिए आगे क्या होगा?

वही गुलालई इस्लामाबाद में रह रहे अपने माता-पिता को लेकर चिंतित हैं, जो आतंकी फंडिंग के आरोपों के चलते कड़ी निगरानी में हैं। उन्होंने समर्थन के लिए कई मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और सांसदों से मुलाकात की है। 

डेमोक्रेट सांसद का समर्थन
-डेमोक्रेटिक पार्टी से जुड़े अमेरिकी सांसद चार्ल्स शूमर ने कहा कि वह गुलालई को शरण दिलाने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे। यह स्पष्ट है कि अगर वह पाकिस्तान लौटती हैं तो उनकी जिंदगी खतरे में पड़ जाएगी।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From world

Trending Now
Recommended