संजीवनी टुडे

हाइब्रिड भ्रूण पशुओं से इंसानों के अंग उत्पन्न करने की राह में कदम, कई रोगों का होगा सफल इलाज

संजीवनी टुडे 19-02-2018 20:33:42

Source: Google


वाशिंगटन। भ्रूण में मानव और भेड़ की स्टेम सेल्स (कोशिकाएं) का उपयोग किया गया है। इस क्षेत्र में और प्रगति होने से प्रत्यारोपण के लिए पशुओं में मानव अंगों के विकास की राह खुल सकती है। इससे प्रत्यारोपण में अंगों की कमी की बड़ी समस्या दूर की जा सकती है। अमेरिकी और जापानी वैज्ञानिकों को पशुओं से मानव अंग विकसित करने की दिशा में बड़ी सफलता मिली है। उन्होंने भेड़ में एक हाइब्रिड भ्रूण विकसित किया है।

यह भी पढ़े: VIDEO: 15 वें ASEAN शिखर सम्मेलन में भाग लेने फिलीपींस पहुंचे PM मोदी

शोधकर्ताओं के अनुसार, मानव और भेड़ की कोशिकाओं से तैयार यह हाइब्रिड भ्रूण पशुओं से इंसानों के अंग उत्पन्न करने की राह में प्रारंभिक कदम है। आने वाले समय में पशुओं से विकसित अंगों को रोगियों में प्रत्यारोपित किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि मानव स्टेम सेल्स को भेड़ के गर्भ में स्थानांतरित कर भ्रूण विकसित करने में सफलता मिली। इसमें 28 दिनों का वक्त लगा। इसका परीक्षण टोक्यो यूनिवर्सिटी में शुरू किया गया था।

आपको बता दे कि टोक्यो यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता पहले ही चूहे से पैंक्रियाज (अग्न्याशय) विकसित कर चुके हैं। डायबिटीज पीडि़त चूहे में प्रत्यारोपित किया गया यह पैंक्रियाज पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन पैदा करने में कामयाब पाया गया। इससे आने वाले समय में डायबिटीज पीडि़तों की समस्या दूर करने में मदद मिल सकती है।

MUST WATCH

ये भी पढ़े: लड़की ने किया ऐसा जोरदार डांस, देखने वाले हो गए पागल, देखें वीडियो

जापान में हालांकि इस तरह के शोध पर रोक होने की वजह से अमेरिका की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी का रुख किया गया। उन्होंने कहा, चूहे में पैंक्रियाज के विकास से यह जाहिर हुआ कि अंगों को दूसरे पशुओं में भी उत्पन्न किया जा सकता है। इस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता पहले ही चूहों में पैंक्रियाज (अग्न्याशय) का विकास कर चुके हैं। ताजा शोध से जुड़े शोधकर्ता हिरो नाकोची ने कहा कि चूहों के बाद अगले कदम के तौर पर बड़े पशुओं में इसे आजमाया गया। 

sanjeevni app

More From world

Loading...
Trending Now