संजीवनी टुडे

वैज्ञानिकों को मिली बड़ी कामयाबी, अब ब्लड में इन किरणों की मदद से होगा कोरोना का खात्मा

संजीवनी टुडे 01-06-2020 09:16:49

यह एक ऐसी उपलब्धि है जिससे खून चढ़ाए जाने के दौरान वायरस के प्रसार की आशंका को घटाने में मदद मिलेगी।


डेस्क। कोरोना संक्रमण से लड़ रही दुनिया इसे हराने का उपाय तलाश रही है। इलाज तलाशने की इस कोशिश में मुनाफे तलाशने की चिंता भी खूब है। फार्मा कंपनियों व अन्य संस्थानों की फंडिंग पर दवा विकसित करने के लिए रिसर्च कई गुना बढ़ गई हैं। इसी बीच अब एक स्टडी के अनुसार अब ब्लड में इन इन विटामिन रिबोफ्लेविन और पराबैंगनी किरणों की मदद से कोरोना का खात्मा हो सकता है। 

Corona Virus research

'पीएलओएस वन' पत्रिका में प्रकाशित हुई एक स्टडी के मुताबिक अनुसंधानकर्ताओं ने यह दिखाया है कि कोरोना वायरस को विटामिन रिबोफ्लेविन और पराबैंगनी किरणों के संपर्क में लाया जाए तो ये मानव प्लाज्मा और रक्त उत्पादों (इंसान के खून से बनने वाले उपचारात्मक पदार्थ जैसे रेड ब्लड सेल, प्लेटलेट्स, प्लाज्मा इत्यादि) में वायरस की मात्रा को कम करते है। 

Corona Virus research

कोरोना वायरस के इलाज से को लेकर यह एक राहत की खबर हो सकती है। यह एक ऐसी उपलब्धि है जिससे खून चढ़ाए जाने के दौरान वायरस के प्रसार की आशंका को घटाने में मदद मिलेगी। हालांकि, अमेरिका की कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने कहा है कि यह अब भी पता नहीं चल सका है कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के लिए जिम्मेदार कोरोना वायरस या सार्स-CoV-2 खून चढ़ाए जाने से फैलता है या नहीं। 

Corona Virus research

स्टडी में अनुसंधानकर्ताओं ने प्लाज्मा के नौ और तीन रक्त उत्पादों के उपचार के लिए मिरासोल पैथोजन रिडक्शन टेक्नोलॉजी सिस्टम नाम का एक उपकरण विकसित किया है। कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी से स्टडी के वरिष्ठ लेखक रे गुडरिच द्वारा आविष्कृत यह उपकरण रक्त उत्पाद या प्लाज्मा को पराबैंगनी किरणों के संपर्क में लाकर काम करता है। 

Corona Virus research

अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि यह उपकरण 1980 के दशक में उस वक्‍त मददगार बना जब एचआईवी खून और रक्त उत्पादों के जरिए फैल गया था। हालांकि, गुडरिच ने कहा कि फिलहाल मिरासोल का इस्तेमाल केवल अमेरिका से बाहर खासकर यूरोप, पश्चिम एशिया और अफ्रीका में स्वीकृत है। वहीं, स्टडी की सह-लेखिका इजाबेला रगान का कहना है कि हमने वायरस की बड़ी मात्रा को घटाया और इलाज के बाद हमें वायरस नहीं मिला। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

यह खबर भी पढ़े: भारत पर मंडरा रहा है एक और खतरा, 'अम्फान' के बाद अब 'हिका चक्रवात' दे रहा है दस्तक, 120 किलोमीटर प्रति घंटा होगी रफ्तार

यह खबर भी पढ़े: ये रहा Reliance Jio का अब तक सबसे धांसू प्लान, पुराने दाम पर मिल रहा है डबल डेटा, अभी करें रिचार्ज

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From world

Trending Now
Recommended