संजीवनी टुडे

अमेरिका में अश्वेत की मौत पर बवाल, राजधानी में उतरी सेना, ट्रंप ने कहा- 'धरती की सबसे सुरक्षित जगह है वॉशिंगटन'

संजीवनी टुडे 03-06-2020 07:15:42

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इन हिंसक प्रदर्शनों को घरेलू आतंकवाद करार दिया है।


वॉशिंगटन। अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी के बीच अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद हिंसा का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इन हिंसक प्रदर्शनों को घरेलू आतंकवाद करार दिया है। फ्लॉयड की मौत के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों की आग अमेरिका के 140 शहरों तक पहुंच गई है। इसे देश में पिछले कई दशकों में सबसे खराब नागरिक अशांति माना जा रहा है।

Washington

हिंसक प्रदर्शनों की आग राजधानी वॉशिंगटन तक पहुंच गई। इसको देखते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार शाम को ही भारी संख्या में मिलिट्री की तैनाती का फैसला किया था। आर्मी के मोर्चा संभालने के बाद हिंसा की कोई खबर सामने नहीं आई जिस पर राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर लिखा, 'बीती रात वॉशिंगटन इस धरती का सबसे सुरक्षित स्थान था।'

गौरतलब है कि अमेरिका में अश्वेत व्यक्ति की पुलिस हिरासत में मौत पर हो रहे प्रदर्शनों की आंच कई देशों में फैल गई है। यूरोप में लंदन में अमेरिकी दूतावास के सामने जॉर्ज फ्लॉयड के प्रदर्शनकारियों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए भारी संख्या में लोग इकट्ठा हुए। लंदन की मेट्रोपॉलिटन पुलिस सेवा ने यह जानकारी दी। 

पुलिस ने ट्वीट किया, इस दौरान कुल 23 लोग गिरफ्तार किए गए। इसमें शामिल अधिकतर लोगों ने इस क्षेत्र को छोड़ दिया है। इसके अलावा हजारों लोग लंदन के ट्रेफलगर स्क्वॉयर में एकत्र हुए और प्रदर्शन किया। अब यह हिंसक प्रदर्शन राजधानी वॉशिंगटन डीसी समेत अमेरिका के 140 शहरों तक फैल गया है। जॉर्ज फ्लॉयड की मौत का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने रविवार को वाइट हाउस के सामने जमकर प्रदर्शन किया था।

Washington

इस हिंसा को रोकने के लिएअब तक करीब 4 हजार लोगों को गिरफ्तार किया गया है और पूरे वॉशिंगटन में कर्फ्यू लगा दिया गया है। वॉशिंगटन के कुछ इलाकों में लूटपाट और आगजनी की भी खबरें आईं जिसके बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार शाम को ही भारी संख्या में मिलिट्री की तैनाती का फैसला किया था। कुछ ही घंटों में सेना ने मोर्चा भी संभाल लिया। इसके बाद राजधानी से हिंसा की कोई खबर सामने नहीं आई जिस पर राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर लिखा, 'बीती रात वॉशिंगटन इस धरती का सबसे सुरक्षित स्थान था।'वॉशिंगटन के चर्च को लगाई आग, ट्रंप ने किया दौरा

Washington

24 राज्यों में तैनात 17 हजार नैशनल गार्ड्स
इस बीच वॉशिंगटन समेत देश के कई हिस्सो में हालात नियंत्रण से बाहर निकलते देख राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिकी सेना को उतारने का फैसला किया है। मंगलवार से 24 राज्यों में करीब 17 हजार जवानों की तैनाती कर दी गई है। 

Washington

राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा, 'जॉर्ज फ्लॉयड की निर्मम हत्या से सभी अमेरिकी दुखी हैं और उनके मन में एक आक्रोश है। जॉर्ज और उनके परिवार को इंसाफ दिलाने में हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मेरे प्रशासन की ओर से उन्हें पूरा न्याय मिलेगा। मगर देश के राष्ट्रपति के तौर पर मेरी पहली प्राथमिकता इस महान देश और इसके नागरिकों के हितों की रक्षा करना है।'

Washington

चीन समेत कई देशों का निशाना- 
चीन समेत कई देशों ने घटनाक्रम की आलोचना की। चीन ने कहा कि अमेरिका का सबसे बड़ा वायरस नस्लभेद है। ईरान के सरकारी टीवी चैनल ने बार-बार अमेरिकी अशांति की तस्वीरें दिखाईं। रूस बोला कि अमेरिका में पूरी व्यवस्था में मानवाधिकार समस्याएं हैं। चीन में सरकार नियंत्रित मीडिया ने इन प्रदर्शनों को हांगकांग में सरकार विरोधी प्रदर्शनों पर अमेरिकी विचारों के चश्मे से देखा। उसने कहा है कि हांगकांग पर टिप्पणी करने से पहले अमेरिकी नेताओं को दो बार विचार करना चाहिए। उत्तर कोरिया के अखबार ने खबर दी कि प्रदर्शनकारियों ने एक अश्वेत नागरिक की श्वेत पुलिसकर्मी द्वारा 'अवैध एवं नृशंस हत्या' की 'कठोरता से निंदा' की है।

यह खबर भी पढ़े: Jio Phone में वॉट्सऐप चलाने वालों के लिए खुशखबरी, जल्द जुड़ेगा नया फीचर

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From world

Trending Now
Recommended