संजीवनी टुडे

चीन और रूस से निपटने को अमेरिका ने बनाई नई मिसाइल रक्षा नीति

संजीवनी टुडे 18-01-2019 18:13:40


वाशिंगटन। हिन्द प्रशांत और दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में चीन और रूस से मिल रही चुनौतियों के मद्देनजर अमेरिका ने नई मिसाइल रक्षा नीति की घोषणा की है। यह जानकारी शुक्रवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। 

दरअसल अमेरिका को यह आशंका है कि चीन और रूस उसे हिन्द-प्रशांत क्षेत्र से विस्थापित करना चाहता है। इतना ही नहीं पड़ोसियों के साथ क्षेत्रीय सीमाई विवाद में चीन का रुख साम्राज्यवादी रहता है और वह अक्सर दबंगई दिखाता रहता है जिससे अमेरिका को अपनी मिसाइल नीति पर फिर से विचार करना पड़ा है।

उल्लेखनीय है कि पेंटागन ने गुरुवार को ‘ मिसाइल रक्षा समीक्षा’ रिपोर्ट जारी किया। रिपोर्ट में पेंटागन ने कहा है कि रूस और चीन हाइपरसोनिक मिसाइल क्षमता विकसित कर रहा है जिसकी गति और पथ का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है।

जयपुर में प्लॉट: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि यह वास्तव में चुनौती पूर्ण है और मिसाइल खतरे का माहौल बन रहा है। इस पर ध्यान देने की जरूरत है। अमेरिका के कार्यकारी रक्षा मंत्री ने इस मामले में कहा, “ दरअसल चीन और रूस जो चुनौतियां पेश कर रहे हैं, वे कई मायने में अलग हैं। ये देश वर्तमान मिसाइल प्रणाली की क्षमता बढ़ा रहे हैं और साथ ही नौसेना और वायु सेना के लिए उन्नत मिसाइल प्रणाली का विकास भी कर रहे हैं। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

अमेरिका की समग्र दृष्टि पत्र में हमलों को रोकने और प्रतिद्वंद्वी को हराने पर बल दिया गया है। इस नीति में देश, मित्र देशों और सहयोगियों की सुरक्षा और प्रतिद्वंद्वियों की ओर से खतरे निपटने पर जोर दिया गया है।

More From world

Trending Now
Recommended