संजीवनी टुडे

सफेदपोश लोगों के अपराध को पहचानना और उसका पता लगाना काफी मुश्किल: हाईकोर्ट

संजीवनी टुडे 18-06-2019 17:32:11

इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने मंगलवार को कहा कि सफेदपोश लोगों के अपराध को पहचानना और उसका पता लगाना काफी मुश्किल भरा काम होता है, इसलिए राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) को पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी और उनकी बहन फरयाल तालपुर को हिरासत में रखना जरूरी है


इस्लामाबाद। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने मंगलवार को कहा कि सफेदपोश लोगों के अपराध को पहचानना और उसका पता लगाना काफी मुश्किल भरा काम होता है, इसलिए राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) को पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी और उनकी बहन फरयाल तालपुर को हिरासत में रखना जरूरी है।

कोर्ट ने यह भी कहा है कि एनएबी की दुर्भावना के कोई सबूत नहीं मिले हैं जो   गिरफ्तारी से पूर्व जमानत देने अथवा नहीं देने के लिए आधार होता है। 

समाचार पत्र डॉन के मुताबिक,  पिछले हफ्ते हाई कोर्ट ने फर्जी बैंक खाते मामले में जरदारी की गिरफ्तारी से पूर्व जमानत याचिका खारिज कर दी थी। इसके बाद राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो की 15 सदस्यीय टीम ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। साथ ही तालपुर को 14 जून को हिरासत में लिया गया था। दोनों नेता एनएबी की हिरासत में रिमांड पर हैं। 

 

 

More From world

Trending Now
Recommended