संजीवनी टुडे

खुलासा: चीन में मुस्लिमों की दर्दनाक हालत, हाथ-पैर बांधकर करते है ये काम

संजीवनी टुडे 18-05-2018 13:16:00


पेइचिंग। चीन के पश्चिमी इलाके में मुस्लिमों को शिक्षित करने के नाम पर खोले गए कैंपों का सच अब दुनिया के सामने आ रहा है। इन कैंपो में रखे गए मुस्लिमों को अपने धार्मिक विचार त्यागकर चीनी नीति और तौर-तरीकों और कम्युनिज्म का पाठ पढ़ाया जा रहा है। कैंप में रह चुके एक मुस्लिम कायरात समरकंद ने वहां से निकलने के बाद अपनी आपबीती सुनाई। 

समरकंद ने बताया कि, उनका पराध सिर्फ इतना सा था कि वह मुस्लिम हैं और पड़ोसी देश कजाखस्तान चले गए थे। सिर्फ इसी आधार पर उन्हें हिरासत में ले लिया गया, तीन दिन तक कड़े सवाल-जवाब किए गए और फिर नवंबर में चीन के शिनजियांग में 3 महीने के लिए ‘रीएजुकेशन कैंप’ में भेज दिया गया।

समरकंद ने बताया कि, करामागे गांव के एक कैंप में ही करीब 5 हजार 700 लोगों को बंदी बनाकर रखा गया है। 

इन तरीकों से कैंपो में करते है अत्याचार:-

- घटिया खाना दिया जाता है। 
- जबरन वर्जित मांस और शराब पिलाई जाती है। 
- हर बात बेइज्जत किया जाता है। 
- वामपंथी प्रोपेगेंडा पढ़ने को मजबूर किया जाता है। 
- ब्रेनवाश की कोशिश की जाती है। 

- जबरदस्ती राष्ट्रपति शी जिनपिंग की लंबी उम्र की कामना वाले नारे लगवाए जाते है। 
- कहना न मानने वालों को हाथों-पैरों में 12 घंटे तक बेड़ियां बंधवा दी जाती है। 
- लोगों का मुंह पानी में डाल दिया जाता है। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH

मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में यूरोपियन स्कूल ऑफ कल्चर ऐंड थियॉलजी इन कोर्नटल के आद्रियान जेंज ने कहा है कि, चीन के इन रीएजुकेशन कैंप में कई हजार मुस्लिमों को रखा गया है। चीन के शिनजियांग प्रांत में करीब एक करोड़ 10 लाख मुस्लिम हैं और इसकी कुल आबादी 2 करोड़ 10 लाख है। इनमें से एक बड़ी संख्या को हिरासत में ले लिया गया है, जिनमें अधिकतर युवा पुरुष हैं।

sanjeevni app

More From world

Trending Now
Recommended