संजीवनी टुडे

Corona vaccine: शार्क के लिवर के तेल सहित 500 चीजों के इस्तेमाल से बनेगी कोरोना की सुरक्षित वैक्सीन

संजीवनी टुडे 19-11-2020 08:21:13

कोरोना वायरस की वैक्सीन को तैयार करने के लिए दुनिया भर में कई जगहों पर कोशिश चल रही है। हाल ही में दवा कंपनी मॉडर्ना ने घोषणा की कि उसने वैक्सीन तैयार कर ली है, जो 94.5% तक वायरस को खत्म करने में कारगर है।


डेस्क। कोरोना वायरस की वैक्सीन को तैयार करने के लिए दुनिया भर में कई जगहों पर कोशिश चल रही है। हाल ही में दवा कंपनी मॉडर्ना ने घोषणा की कि उसने वैक्सीन तैयार कर ली है, जो 94.5% तक वायरस को खत्म करने में कारगर है। वहीं, बीते हफ्ते दवा कंपनी फाइजर ने भी वैक्सीन तैयार करने की जानकारी दी थी। लेकिन इन दावों के बीच चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि वैक्सीन में शार्क मछली के लिवर का तेल, एक खास पेड़ की छाल और रेत जैसी 500 चीजों का इस्तेमाल होना है, लेकिन इनकी उपलब्धता का संकट है।

covid19

सूत्रों के मुताबिक लंदन के इम्पीरियल कॉलेज में वैक्सीन बनाने में लगी टीम के प्रमुख प्रोफेसर रॉबिन शटॉक कहते हैं, हम नहीं जानते कि वैक्सीन लोगों को कब तक सुरक्षित रखेगी। अगर एक वैक्सीन मार्केट में आ भी जाती है तो इसका मतलब ये नहीं है कि वह सभी के लिए बेस्ट है।

तेल के लिए ज्यादा शार्क मारी जाएंगी

रॉबिन के अनुसार वैक्सीन के लिए जरूरी तत्वों में से एक शार्क के लिवर में मिलने वाला तेल है, जो फ्लू की वैक्सीन में इस्तेमाल होता है। कन्जर्वेशन ग्रुप मानते हैं कि लगातार कम हो रही शार्क की डिमांड बढ़ेगी। इन्हें ज्यादा मारा जाएगा।

छाल कैसे मिलेगी, जब क्विलाजा पेड़ ही इन दिनों सूखे की चपेट में हैं नोवावैक्स की वैक्सीन में क्विलाजा सपोनारिया पेड़ की छाल लगनी है। इसमें इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने वाले गुण हैं। यह पेड़ फिलहाल सूखे की चपेट में हैं और इनकी छाल भी साल के खास महीनों में ही निकाली जा सकती है।

covid19

टीके के लिए शीशियों का संकट भी

वैक्सीन के लिए फायरेक्स शीशियां बोरोसिलिकेट ग्लास से बनती हैं, उनकी संख्या भी कम है। साइंटिफिक एडवाइजरी ग्रुप ऑफ इमरजेंसी के सदस्य सर जॉन बेल कहते हैं कि सिर्फ 20 करोड़ शीशियां हैं, जिनका उपयोग हो रहा है।

यह खबर भी पढ़े: इस मां ने अपनी बेटी लिए किया ये काम, सुनकर आप भी यकीन नहीं करोगें...

यह खबर भी पढ़े: महिलाओं के लिए खबर, चेहरे पर ज्यादा बाल नजर आना PCOS का हो सकता है संकेत, भूलकर भी न करें नजरअंदाज

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From world

Trending Now
Recommended