संजीवनी टुडे

वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट-डे पर फार्मासिस्ट के द्वारा लिखी गयी एक कहानी...

संजीवनी टुडे 24-09-2020 14:06:35

स्‍वास्‍थ सेवाओं को बेहतर बनाने में फार्मासिस्ट का खास योगदान है।


मै विनोद कुमार मीना , सविदा फार्मासिस्ट के पद पर "सवाई मानसिह चिकित्सालय,जयपुर" मे कार्यरत हू ।। ओर मैने इस कोरोना महामारी मे भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है,ओर जब राजस्थान मे कोरोना का पहला मरीज सवाई मानसिह चिकित्सालय के "आईसोलेसन-डिपार्टमेन्टल" मे आया तब मेरी ड्यूटी यहा पर लगा दी गयी थी , जिससे मैने बहुत कुछ सिखा एवं मेरे को इस महामारी मे सेवा करने का मोका मिला..आज मै आपको 'वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट-डे' के अवसर पर अपने अनुभव के आधार लिखा गया एक साराशं-

25 सितंम्बर को पूरी दुनिया में पूर्व वर्ष की तरह ही इस वर्ष भी वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे (World Pharmacist day) सेलिब्रेट किया जा रहा है. फार्मासिस्ट डे दुनिया भर के फार्मासिस्ट को समर्पित है. हमारी अच्छी सेहत के पीछे फार्मासिस्ट का खास योगदान है। लेकिन हम में से बहुत कम ही लोग हैं, जो ये जानते हैं कि फार्मासिस्ट डे (Pharmacist day) क्यों मनाया जाता है। ऐसे में आज हम आपको फार्मासिस्ट डे के इतिहास के बारें में बताने जा रहे हैं।

स्‍वास्‍थ सेवाओं को बेहतर बनाने में फार्मासिस्ट का खास योगदान है। ऐसे में फार्मासिस्ट को सम्मान देने और जागरूकता पैदा करने के लिए 25 सितंबर को वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे मनाया जाता है। वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे की शुरुआत 2009 में इस्तांबुल में हुई थी। अंतरराष्ट्रीय फार्मास्युटिकल फेडरेशन (एफआईपी) कांग्रेस द्वारा 25 सितंबर को फार्मासिस्ट डे के रूप में नामांकित किया गया था।

25 सितंबर की तारीख चुनने के पीछे भी बड़ा कारण था। दरहसल 25 सितंबर के दिन ही एफआईपी की 1912 में स्‍थापना हुई थी। बता दें कि एफआईपी के सदस्य देश में फार्मासिस्ट की गतिविधियों के बारे में जागरूकता बढ़ाते हैं।

एक व्यक्ति जो अलग-अलग तरह की दवाओं के बारे में जानता है और साथ ही उसकी संरचना के बारे में भी जानता है वही एक फार्मासिस्ट है। एक डॉक्टर आपको उक्त दवा लेने के लिए कहता है मगर फार्मासिस्ट वह व्यक्ति होता है जो न सिर्फ इसे बनाता है बल्कि इसके साथ-साथ दवा को आपके लिए उपलब्ध भी कराता है।

फार्मेसी एक अच्छा पेशा है
जिस तरह अलग-अलग मसालों का स्वाद भी अलग-अलग होता हैं; उसी तरह, अलग-अलग लोगों की पसंद भी अलग होती है और उसी के अनुसार वे अपना पेशा भी चुनते हैं। मेरी रूचि चिकित्सा क्षेत्र में है, लेकिन मुझे इंजेक्शन से डर भी लगता है। ऐसे में, मैं इस क्षेत्र में कैसे योगदान कर सकता हूं? आप एक फार्मासिस्ट हो सकते हैं; वह जो दवाओं और इसके उत्पादन से संबंधित है। उन्हें रिकॉर्ड बना कर रखना होता है और हमारे लिए सही दवा लाने के लिए उन्हें तरह तरह के शोध भी करने होते हैं। उन्हें इंजेक्शन देने के लिए भी प्रशिक्षित किया जाता है, लेकिन ये काम उन्हें कभी-कभार ही करना है।

एक फार्मासिस्ट क्या करता है?
सही दवा बनाने के लिए वे अलग अलग घटकों और रासायनिक मिश्रणों का गहराई से शोध करते हैं। जब भी आपको बुखार महसूस होता है और साथ सिरदर्द भी हो तब आप पेरासिटामोल लेना उचित समझते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि यह दवाई आती कहाँ से है? इसके लिए आपको हमारे फार्मासिस्टों को धन्यवाद देना चहिये जो लगातार इसके लिए काम करते रहते हैं।

इसी तरह, तमाम बीमारियां हैं और इसका जीता जागता उदाहरण है COVID-19, दुनियाभर के अलग अलग हिस्सों में फार्मासिस्ट अभी भी तमाम तरह के रिसर्च कर रहे हैं; ताकि वे वैक्सीन के साथ-साथ दवा भी विकसित कर सकें।

इन सबके अलावा सदियों से हमने तमाम तरह की मौतें पैदा करने वाली बीमारियों का सामना किया है और यह हमारी फार्मेसी टीम ही है जो हमेशा इन सभी का इलाज बनाती है। हमने पोलियो, प्लेग, आदि जैसी कई बीमारियों को दूर किया है और ये हमारे फार्मासिस्ट द्वारा किए गए महान काम के कुछ उदाहरण हैं।

धर्यवान होना चाहिये
मुझे लगता है कि धर्यवान होना किसी भी फार्मासिस्ट के सबसे महत्वपूर्ण गुणों में से एक है। हम एक दिन में एक किसी भी बीमारी की दवा नहीं बना सकते हैं, इसके लिए धर्य की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। इसमें समय लगता है और कभी-कभी तो वर्षों लग जाते हैं। उदाहरण के लिए, आज तक डेंगू के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं है। वर्षों हो गए हैं और अभी भी हमारी मेडिकल टीम इस पर काम कर रही है।

इसलिए, एक फार्मासिस्ट के पास ढेर सारा धैर्य होना चाहिए और हर बार उसी उत्साह के साथ उसे तैयार रहना चाहिए, भले ही यह उसका 100वां प्रयास हो।

केंद्रित होना चाहिए
दवा बनाने के लिए बहुत ही सावधान और सतर्क होना आवश्यक है और एक फार्मासिस्ट हमेशा केंद्रित होना चाहिए। आमतौर पर, हम लगातार असफल होते जाते हैं तो हम उतना ध्यान देना बंद कर देते है। लेकिन एक वैज्ञानिक या फार्मासिस्ट होने के लिए आपका ध्यान केंद्रित किया जाना बेहद जरूरी है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कितनी बार असफल हुए लेकिन हर बार जब वे नई शुरुआत करते हैं, तो उन्हें हर चीज पर ध्यान देना होता है और प्रत्येक जानकारी को लिखना होता है।

हम एक छोटी सी गोली खाते हैं जिसमें बहुत सारी चीजें होती हैं। इस सब के लिए बहुत सारा प्रयास और एक साथ विस्तृत चीजों की आवश्यकता होती है और मात्रा में एक छोटा सा परिवर्तन हमारे लिए परेशानी उत्पन्न कर सकता है। इसलिए, फार्मासिस्ट होने के लिए बहुत ज्यादा ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती है।

हर किसी की अपनी निजी जिंदगी के साथ-साथ पेशेवर ज़िंदगी भी होती है और उन्हें इसके बीच संतुलन बनाये रखना पड़ता है। मगर एक शोध फार्मासिस्ट केवल अपने बारे में नहीं सोच सकता है। कभी-कभी उन्हें सिर्फ परिणाम देखने के लिए अपने सामान्य कार्य अवधी से काफी ज्यादा वक़्त तक इंतजार करना पड़ता है। वे लक्ष्य-उन्मुख होते हैं और किसी भी कीमत पर अपना काम खत्म करना उनके लिए आवश्यक होता है।

मान लीजिए किसी शोध के दौरान आपको 6 घंटे के बाद एक और यौगिक को जोड़ना है, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि रात के 12 बज रहे या सुबह के 5 बजे है। आपको रुकना है और अपना कार्य पूरा करना होगा अन्यथा पूरा अनुसंधान बेकार चला जाएगा।

जानकारी होनी चाहिए...
ज्ञान एक ऐसी चीज है जो आपको इस क्षेत्र में सफल बनाती है। जितना अधिक आप विभिन्न दवाओं के बारे में पढ़ते है आप उतने ज्यादा अपडेट रहते हैं। इससे आपको अपनी गतिविधियों को सही दिशा में करने में भी मदद मिलती है। इसके साथ ही, केस स्टडी पढ़ने से आपका ज्ञान तो बढ़ता ही है साथ ही साथ यही ज्ञान आपको और ज्यादा सटीकता प्रदान करता है।

प्रबंधन में बेहतर होना चाहिए
एक फार्मासिस्ट के पास बेहतर प्रबंधन कौशल होना आवश्यक है। उन्हें एक ही समय में कई चीजों पर शोध करना हो सकता है; ऐसे में उन्हें अन्य चीजों के लिए प्रबंधन करना होता है। यदि आप एक टीम में काम कर रहे हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि प्रबंधन और सहयोग कैसे करना चाहिए। एक अच्छे प्रबंधन के साथ टीम हमेशा जीतती है। इसलिए, हमेशा पहले से ही सामग्री की सूची के बारे में सुनिश्चित कर लेना चाहिए और अपनी टीम के सदस्यों की अन्य छोटी बातों का भी ध्यान रखना चाहिए; यह निश्चित रूप से आपको एक अच्छा प्रबंधक बनाता है।

मल्टीटास्किंग...
एक फार्मासिस्ट वो नहीं होता जो हमेशा सिर्फ विभिन्न तरह के शोध करता है, बल्कि उसे अन्य कार्यों को करने में भी सक्षम होना चाहिए, जैसे कि उन्हें विभिन्न दवाओं और उनकी रचनाओं के बारे में भी बेहतर जानकारी होनी चाहिए। जरूरत पड़ने पर वे केमिस्ट शॉप पर काम भी कर सकते हैं और लोगों को सही दवा लेने में मदद भी कर सकते हैं। वे विभिन्न दवाओं के निर्माण और समाप्ति की तारीख आदि के रिकॉर्ड रखने के रूप में भी काम कर सकते हैं। उन्हें कंप्यूटर का भी बेहतर ज्ञान होना चाहिए। ये सभी चीजें आपको मल्टीटास्किंग बनाती हैं।

निष्कर्ष...
आजकल आपने देखा होगा कि लोग अपनी रुचि के अनुसार वाला करियर चुनने पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करते हैं, सिर्फ इसलिए कि अपनी रुचि बनाए रखें। मान लीजिए कि आप अपने पिता की मर्जी से फार्मासिस्ट बन गए हैं और फिर इस क्षेत्र में आने के बाद, आपको विभिन्न कार्यों और शोध करना होगा। निश्चित रूप से आप कुछ ही महीनों में ऊब जाएंगे और आपका ही काम आपके लिए बोझिल हो जायेगा। यह आपको जीवन में सफल होने में कभी मदद नहीं करेगा। इसलिए, हमेशा अपने पेशे को सतर्कता से चुने।

ये लेखक के अपने निजी विचार है। 
लेखक: विनोद कुमार मीना

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From world

Trending Now
Recommended