संजीवनी टुडे

पद्मावती: उमा भारती ने लिखा खत, कहा-रानी पद्मावती की गाथा ऐतिहासिक तथ्य जबकि खिलजी व्यवचारी हमलावर

संजीवनी टुडे 04-11-2017 18:40:10

Padmavatie Uma Bharti wrote the letter saidthe story of Rani Padmavati is a historical fact while the Khalijibased assailant

नई दिल्ली। फिल्म 'पद्मावती' का विरोध बढ़ता ही जा रहा हैं। हाल ही  राजस्थान के बाद गुजरात में फिल्म का विरोध हुआ था। लेकिन अब भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' और मुश्किलों में फंसती नजर आ रही हैं। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने एक खुली चिट्ठी लिखकर फिल्म को लेकर अपना विरोध जताया है। उमा भारती ने कहा है कि जब आप किसी ऐतिहासिक तथ्य पर फिल्म बनाते हैं तो उसके फैक्ट को वायलेट नहीं कर सकते। उन्होंने फिल्म के निर्देशक से कहा है कि लोगों के मन में जो आशंकाएं हैं उनको दूर किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़े: VIDEO : शाहपुरा हादसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 14 हुई, कई लोग गंभीर रूप से घायल 

उनका कहना हैं की ‘’तथ्य को बदला नहीं जा सकता, उसे अच्छा या बुरा कहा जा सकता है। सोचने की आजादी किसी भी तथ्य की निंदा या स्तुति का अधिकार हमें देती है। रानी पद्मावती की गाथा एक ऐतिहासिक तथ्य है। अलाउद्दीन खिलजी एक व्यवचारी हमलावर था। उसकी बुरी नजर रानी पद्मावती पर थी और इसके लिए उसने चित्तौड़ को नष्ट कर दिया था। रानी पद्मावती के पति राणा रतन सिंह अपने साथियों के साथ वीरगति को प्राप्त हुए थे। स्वयं रानी पद्मावती ने हजारों उन स्त्रियों के साथ, जिनके पति वीरगति को प्राप्त हो गए थे, जीवित ही स्वयं को आग के हवाले कर जौहर कर लिया था। हमने इतिहास में यही पढ़ा है और आज भी खिलजी से नफरत और पद्मावती के लिए सम्मान और उनके दुखद अंत के लिए बहुत वेदना होती है।

आज भी मनचाहा रेसपॉंस नहीं मिलने पर कुछ लड़के, लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डाल देते हैं, वो सब किसी भी धर्म या जाति के हों, मुझे अलाउद्दीन खिलजी के ही वंसज लगते हैं। मैंने इस फिल्म डायरेक्टर की पहले भी फिल्में देखी हैं, मैं सोचने की आजादी का सम्मान करती हूं और मानती हूं कि अभिव्यक्त करने का भी मानव समाज को एक अधिकार है। किंतु, अभिव्यक्ति में कही तो एक सीमा होती ही है। जैसे कि- आप बहन को पत्नी और पत्नी को बहन अभिव्यक्त नहीं कर सकते है। इसकी संभावना जानवरों में तो हो सकती है लेकिन स्वतंत्र चेतना के विश्व के किसी भी देश के किसी भी समाज के लोग इस मर्यादा के उल्लंघन की निंदा ही करेंगे।

इसलिए मेरा कहना यहीं है, मैंने तो फिल्म देखी नहीं है, किंतु लोगों के मन में आशंकाओं का जन्म क्यों हो रहा है? इन आशंकाओं का लुत्फ मत उठाइए, न इससे कोइ वोट बैंक बनाइए। कोई रास्ता यदि हो सकता है, जरुरी नहीं है कि जो मैंने सुझाया है वही हो, वो रास्ता निकालकर बात समाप्त कर दीजिए। किंतु यह ध्यान रहे, मैं तो आज की भारतीय महिला हूं, जिस स्थिति में होंगी, भूत, वर्तमान और भविष्य के भारतीय महिलाओं के प्रति यथाशक्ति अपना कर्तव्य जरुर पूरा करुंगी। ’’

यह भी पढ़े: इस युवक की ट्रेफिक पुलिस ने जमकर की पिटाई, देखे वीडियो

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

More From entertainment

loading...
Trending Now
Recommended