संजीवनी टुडे

चित्रकार से संगीतकार तक व वैज्ञानिक से लेकर शिल्पकार तक, हर भूमिका में निपुण थे लियानार्डो

संजीवनी टुडे 01-10-2016 13:33:59


नई दिल्ली। हमारा बचपन कुछ ऐसा था कि मैथ पढ़ें तो साइंस गायब हो जाता था और साइंस पढ़ें, तो साहित्य से वास्ता नहीं रह जाता था पर क्या कोई ऐसा भी होगा जो एक साथ इन सारे विषयों में अव्वल हो और भी बाकी चीज़ों में जैसे चित्रकारी में और संगीत में भी कुशल हो? क्या वास्तव में ऐसा हो सकता है कि किसी एक आदमी में इतने सारे गुणों को घोल कर डाल दिया गया हो। 

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

आपने कभी न कभी लियानार्डो द विंची का नाम ज़रूर सुना होगा। पर आप पूछेंगे कि हम क्यों आपको उनका नाम याद दिला रहे हैं? ऐसा इसलिए कि लियानार्डो चित्रकार, मूर्तिकार, वास्तुकार, संगीतकार, वैज्ञानिक, गणितज्ञ, इंजीनियर, आविष्कारक, शरीर-रचना, भू-विज्ञानी, मानचित्रकार, वनस्पति विज्ञानी और लेखक थे। जी बिलकुल सही सुना आपने, ये सारे गुण एक ही आदमी में भरे हुए थे।

बचपन में ही दिखने लगी थी इनकी विशिष्टता
15 अप्रैल 1452 को जन्मे लियानार्डोमेसर पिएरो फ्रूओसिनो डि एंटोनियो दा विंसी की नाजायज़ संतान थे। इनके पिता एक कानूनी नोटरी और किसान थे। सामान्य तौर पर अपने बाल्यकाल में एक बच्चा जिस गति से सीखता है, लियानार्डो की गति उससे बहुत तेज़ थी। अंकगणित की पढ़ाई में उनकी अविश्वसनीय प्रगति देख कर शिक्षक भी दंग हो जाते थे। जवान होते ही कई बदलाव भी दिखने लगे। ये एक ही समय एक हाथ से लिख लेते थे और दूसरे से चित्रकारी भी कर लेते थे।

भविष्य के कई अविष्कारों की कर चुके थे भविष्यवाणी
लियानार्डो शब्दों को उलटे क्रम में लिख लेते थे, जो आईने में सही दिखाई देते थे। ऐसा वो तब करते थे, जब उन्हें कोई गुप्त सूचना देनी हो। लियानार्डो एक कट्टर शाकाहारी थे, उन्हें जानवरों से बहुत प्यार था। इसलिए वो बाज़ार से पिंजड़े में कैद पक्षियों को खरीद लाते थे और घर लाकर उन्हें उड़ा देते थे। इन्होनें शरीर विज्ञान, भौतिकी, सिविल इंजीनियरिंग और हाइड्रोमैकेनिक्स के क्षेत्र में अद्भुत खोज किये, पर उन्हें किन्हीं कारणवश प्रकाशित नहीं किया जा सका। इन्होंने ही सबसे पहले आकाश का रंग नीला होने का कारण बताया था। 1508 में लियानार्डो ने कॉनटेक्ट लेंस का सुझाव दिया था। ज़्यादातर लोग इन्हें इनके तकनीकी ज्ञान के लिए सराहते हैं, क्योंकि उस वक़्त ही इन्होंने हेलीकॉप्टर, टैंक, सोलर-पॉवर और कैलकुलेटर की मौलिक संरचना को रेखांकित करने का सिद्धांत दिया था।

काफी रहस्मयी था इनका निजी जीवन
ऐसा माना जाता है कि लियानार्डो का निजी जीवन काफी रहस्मयी था। उनका सेक्स जीवन बाकी लोगों के लिए व्यंग और अटकलों का विषय था। उनके ज़्यादातर सम्बन्ध पुरुषों के साथ ही थे, जिनमें दो उनके खास शिष्य सलाई और मेल्ज़ी थे। 1476 पास कोर्ट के का ये रिकॉर्ड भी है, जिसमें लियानार्डो और उनके कुछ पुरुष मित्रों पर गुदा मैथुन का आरोप लगा था। बाद में उन्हें बरी कर दिया गया।

उनकी शानदार पेंटिंग है 
मोनालिसा की पेंटिंग को अब तक की सबसे रहस्मयी पेंटिंग माना जाता है। ये पेंटिंग विश्व की सबसे ज़्यादा बीमा मूल्य वाली पेंटिंग है। 1911 में लौवर संग्रहालय से चोरी होने के बाद ये सबसे चर्चित पेंटिंग बन गयी। अभी इसकी कीमत तकरीबन 780 मीलियन डॉलर है। एक चेहरा पहचान सॉफ्टवेर के अनुसार, लियानार्डो द विंची की मोना लिसा 83% खुश, 9% आशाहीन, 6% डरी हुई और 2% गुस्से में हैं। एक इतालवी इतिहासकार ने ऐसा दावा किया है कि मोनालिसा कोई और नहीं, बल्कि लियानार्डो का शिष्य सलाई ही था। 

पिछले खाना उनकी सबसे चर्चित धार्मिक पेंटिंग थी, जिसको लेकर काफ़ी विवाद भी हुआ था। किंग फ्रांसिस प्रथम लियोनार्डो के काफी करीबी दोस्त थे। लियोनार्डो ने 2 मई 1519 में इन्हीं की बाहों में दम तोड़ा। मरते वक़्त इनके आखिरी शब्द थे - 'मैं भगवान और मानवता नाराज है क्योंकि मेरे काम की गुणवत्ता में यह होना चाहिए नहीं पहुँची है। मैनें भगवान और मानवता को नाराज़ किया हैं, मेरा काम उस गुणवत्ता तक नही पहुंचा, जहां तक ​​पहुंचना चाहिए था।'

यह भी पढ़े :बेटी : मेरा बाप बाप नहीं पाप है, बेहोशी की दवा खिलाकर करता था दुष्कर्म...रात्रि को

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े :विधवा पत्नी ही बन गयी दरोगा की लवर...बेटी ने देखा आपत्तिजनक

यह भी पढ़े : नवेली दुल्हन शादी के 7 दिन बाद ही बनी माँ , क्या वो पहले से ही...

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From world

Trending Now
Recommended