संजीवनी टुडे

अमेरिका के 11 फाइटर जेट ने दक्षिण चीन सागर मे एक साथ भरी उड़ान, देखती रह गई चीनी सेना

संजीवनी टुडे 06-07-2020 21:56:41

परमाणु हथियारों से लैस अमेरिकी फाइटर जेट ने दक्षिण चीन सागर को घेरा, देखती रह गई चीनी सेना।


नई दिल्ली। सीमा पर भारत को घेरने में जुटे चीन को पश्चिम देश गंभीर चुनौती दे रहे हैं। परमाणु हथियारों से लैस अमेरिकी फाइटर जेट ने दक्षिण चीन सागर को घेरा, देखती रह गई चीनी सेना। चीन ने वाशिंगटन पर आरोप लगाया कि वह इस समुद्री क्षेत्र में अपनी सैन्य ताकत दिखा रहा है। दक्षिण चीन सागर में जारी अमेरिकी युद्धाभ्‍यास में यूएस नेवी जोरदार शक्ति प्रदर्शन कर रही है। 

दरअसल, चीन की धमकी के बाद अमेरिका के 11 फाइटर जेट ने एक साथ साउथ चाइना सी के विवाद‍ित इलाके में उड़ान भरी। इस दौरान चीन केवल गीदड़भभकी देता रह गया। अमेरिका की इस आक्रामक कार्रवाई से भड़के चीन के सरकारी अखबार ग्‍लोबल टाइम्‍स ने इसे शक्ति का खुला प्रदर्शन करार दिया। अमेरिका ने इस विवादित जल क्षेत्र में चीन की बढ़ती दादागिरी को चुनौती देने के लिए अपने दो विमानवाहक पोत भेजे हैं, जो क्षेत्र में इस समय संयुक्त सैन्य अभ्यास कर रहे हैं। चीन की सेना भी दक्षिण चीन सागर में सैन्य अभ्यास में जुटी है। 

परमाणु बम ले जाने में सक्षम अमेरिका के B-52H बमवर्षक विमान के साथ अमेरिका के 10 अन्‍य फाइटर जेट और निगरानी विमानों ने रविवार को एक साथ दक्षिण चीन सागर में उड़ान भरी। ये सभी विमान अमेरिकी एयरक्राफ्ट कैरियर निमित्‍ज से उड़ान भरे थे। यूएसएस निमित्‍ज के साथ यूएसएस रोनाल्‍ड रीगन एयरक्राफ्ट कैरियर भी युद्धाभ्‍यास में हिस्‍सा ले रहा है। उधर, दक्षिणी चीन सागर में अमेरिकी एयरक्राफ्ट कैरियर्स की तैनाती से भड़के चीन की मीडिया की धमकियों पर अमेरिकी नौसेना ने मजा लिया है। 

अमेरिकी नौसेना ने सप्ताहांत के दौरान बताया था कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में स्वतंत्र आवाजाही का समर्थन करने के लिए दक्षिण चीन सागर में विमानवाहक पोत यूएसएस रोनाल्ड रीगन और यूएसएस निमित्ज अपने दूसरे युद्धपोतों के साथ मिलकर अभ्यास कर रहे हैं। इधर, चीन भी दक्षिण चीन सागर के विवादास्पद पार्सल द्वीप समूह के समीप सैन्य अभ्यास कर रहा है। इस द्वीप समूह लेकर चीन और वियतनाम के बीच विवाद है। बीजिंग लगभग पूरे दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है और क्षेत्र में अमेरिका के किसी भी दखल का विरोध करता है। जबकि चीन के इस दावे का वियतनाम और फिलीपींस समेत कई क्षेत्रीय देश विरोध करते हैं।

पिछले सप्ताह चीन ने पैरासेल द्वीप के एक जुलाई से पांच दिनों के लिए सैन्य अभ्यास किया था। इस द्वीप पर वियतनाम और चीन दोनों ही अपना दावा करते हैं। दक्षिण चीन सागर में किए गए चीनी अभ्यास की वियतनाम और फिलीपींस ने भी आलोचना की थी। साथ ही चेतावनी दी कि क्षेत्र में चीन की इस गतिविधि से तनाव पैदा हो सकता है और बीजिंग का इसके पड़ोसी देशों के साथ संबंध खराब होने की पूरी संभावना है।

यह खबर भी पढ़े: जापान के 77 प्रतिशत लोगों ने माना, अगले साल भी नहीं होगा ओलंपिक का आयोजन

यह खबर भी पढ़े: कोविड-19 संकट के दौरान कृषि क्षेत्र प्रमुख ताकत के रूप में उभरा: तोमर

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From world

Trending Now
Recommended