संजीवनी टुडे

परिवहन कर्मियों की हड़ताल से दूसरे दिन भी थमे पहिये, यात्रियों को उठानी पड़ी परेशानी

संजीवनी टुडे 14-01-2021 17:17:23

राज्य में दूसरे दिन भी बेमियादी हड़ताल पर गए परिवहन निगम कर्मियों के चलते अधिकांश बसों के पहिये थम गए। इस कारण यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।


देहरादून। राज्य में दूसरे दिन भी बेमियादी हड़ताल पर गए परिवहन निगम कर्मियों के चलते अधिकांश बसों के पहिये थम गए। इस कारण यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। हालांकि निगम प्रबंधन की ओर से बसों का संचालन जारी है। बुधवार से उत्तरांचल रोडवेज कर्मचारी यूनियन की लंबित वेतन भुगतान सहित सात सूत्री मांगों को लेकर प्रदेशव्यापी हड़ताल गुरुवार को भी जारी रही। यूनियन की रोडवेज प्रबंधन से वार्ता बिफल होने के बाद आज भी हड़ताल पर चालक, परिचालक हैं। हड़ताल का असर देहरादून के आईएसबीटी डिपो में ज्यादा दिखा है, जबकि पर्वतीय डिपो रेलवे स्टेशन देहरादून से मसूरी और पहाड़ी जिलों में रोज की तरह बसों का आवागमन जारी है। दूसरे दिन आक्रोशित कर्मचारी कार्य बहिष्कार को सफल बनाने में जुटे हुए हैं। गुरुवार को यूनियन से जुड़े सदस्य सुबह डिपो परिसर में एकत्र हुए और निगम प्रबन्धन के खिलाफ नारेबाजी कर अपना विरोध प्रकट किया। मंडल स्तर पर कर्मियों द्वारा प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी भी की गई है। कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि जबतक उनकी मांगों का निस्तारण नहीं होता तबतक आंदोलन जारी रहेगा। 

वहीं दूसरी ओर, हल्द्वानी में उत्तरांचल रोडवेज कर्मचारी यूनियन से जुड़े सदस्यों ने काठगोदाम डिपो में कार्यबहिष्कार कर डिपो परिसर में सांकेतिक प्रदर्शन किया। उधर रोडवेज प्रबंधन हड़ताल के चलते काम के प्रभावित नहीं होने की बात कह रहा है। आंदोलनरत कर्मचारियों का कहना है कि मांगों के निस्तारण के लिए कई बार प्रबंधन को ज्ञापन भी सौंपा जा चुका है लेकिन मांगों के निस्तारण के लिए कोई कार्रवाई नहीं हुई है। आक्रोशित कर्मचारियों ने चिंता जताई है कि उन्हें पिछले पांच महीने से वेतन नहीं मिला है। ऐसे में घर चलाना बहुत मुश्किल हो गया है।यूनियन के प्रदेश महामंत्री अशोक चौधरी का कहना है कि वार्ता विफल होने के बाद आज भी हड़ताल है। जब तक मांगों को नहीं माना जाएगा, हम आंदोलन को जारी रखेंगे। 

यह खबर भी पढ़े: जम्मू कश्मीर: श्रीनगर में 29 साल बाद सबसे ठंडी रात

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttarakhand

Trending Now
Recommended