संजीवनी टुडे

महंगाई के चलते नहीं बिकी चांदी की राखियां, सर्राफ निराश

संजीवनी टुडे 02-08-2020 20:50:32

महंगाई के चलते नहीं बिकी चांदी की राखियां, सर्राफ निराश


कासगंज। कोरोना महामारी का असर बाजारों साफ तौर पर दिखाई दे रहा है। पिछले वर्षों में रक्षाबंधन के दौरान चांदी की राखियों का बढ़ा क्रेज हुआ करता था, लेकिन इस बार कोरोना वाइरस एवं बढ़ती महंगाई के चलते चांदी की राखियां शो-केसों मेंं रखी धूल फांक रही हैं। सराफा व्यवसाई भी हाथ पर हाथ धरे बैठे  हैं। सर्राफा व्यवसाई दीपक गुप्ता के मुताबिक चाँदी की तेजी के कारण ग्राहक बाजार से नदारद है। लाँक डाऊन से पहले चाँदी 36 हजार प्रति किलोग्राम थी। जो आज 64 हजार हो गयी है। इससे  व्यवसाय पूरी तरह प्रभावित हुआ है। 

राखी की खरीदारी नहीं हो सकी है। सराफा व्यवसाई अनिरुद्ध पलतानी के मुताबिक जो राखी पूर्व में 300 रूपये मे आ जाती थी। वो आज 500 से लेकर 1 हजार ,12 सौ तक आ रही है। जेवरातो और चाँदी की राखियो की बिक्री बिल्कुल ना के बराबर रही है। सराफा व्यवसाई मनोज वर्मा कहते हैं लाँक डाऊन की प्रशासन द्वारा की गयी सख्ती से ग्राहक भी बाजार मे नही आ पाया बाजार मे जो भी दुकानदारी हुयी। बह सिफ॔ शुक्रवार को हुयी जिससे बाजार भीड़ भाड रही, लेकिन शनिवार रविवार को ग्राहक पूरी तरह नदारद रहा दुकानें भी बंद रहीं फल स्वरुप राखी की बिक्री नहीं हो सकी।

यह खबर भी पढ़े: तेलंगाना में कोरोना के 1891 नए मामले दर्ज, बीते 24 घंटे में 10 लोगों की मौत

यह खबर भी पढ़े: गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, राजस्थान में इंदिरा रसोई योजना के तहत गरीबों और जरूरतमंदों को मिलेगा 8 रुपए में शुद्ध पौष्टिक भोजन

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended