संजीवनी टुडे

मौसम बदलाव के साथ ही टमाटर पर बढ़ जाता है रोग का प्रकोप, समय से करें दवा का छिड़काव

संजीवनी टुडे 24-10-2020 13:13:59

टमाटर की फसल में अब फूल-फल लगने लगे हैं या लगने वाले हैं। इस समय किसानों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि इसी समय मौसम बदलाव के कारण रोगों का प्रकोप भी बढ़ता है।


लखनऊ। टमाटर की फसल में अब फूल-फल लगने लगे हैं या लगने वाले हैं। इस समय किसानों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि इसी समय मौसम बदलाव के कारण रोगों का प्रकोप भी बढ़ता है। कृषि विशेषज्ञों की मानें तो कीड़ों के लगते ही किसानों को दवा का छिड़काव करना चाहिए, क्योंकि रोग का प्रकोप बढ़ जाने पर उसे नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।

इस सम्बन्ध में कानपुर कृषि विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मुनीष का कहना है कि टमाटर पर मुख्य रुप से फल छेदक, माहू, सफेद मक्खी, पत्ती खनिक, बदबूदार कीड़े और मकड़ी के कण उपज को कम करते हैं, ये टमाटर पत्ती कर्ल वायरस जैसे संयंत्र रोगों को फैलने में मदद करते हैं।

डॉ. मुनीष ने बताया कि फल छेदक कीड़े फलों में छेद कर देते हैं। इसमें सबसे हानिकारक चरण लार्वा होता है। ये केवल छेद के अंदर ऊपरी हिस्से को खाते हैं। उन्होंने हिन्दुस्थान समाचार से बताया कि इसके लिए किसानों को नीम के बीज गिरी के तेल का छिड़काव करना चाहिए। फल छेदक के संरक्षण के लिए 250 एलई प्रति हेक्टेयर के साथ 20 ग्राम प्रति लीटर गुड का दस दिनों के अंतराल पर छिड़काव करें।

टमाटर में सफेद मक्खियों का भी प्रकोप ज्यादा होता है। ये लगभग एक मिमि लंबे होते हैं। ये अर्क चूसने और पोषक तत्वों को हटाने के कारण पौधों को कमजोर कर देती हैं। यदि आस-पास पानी भरा हो तो पौधों को भारी नुकसान होता है। इस संबंध में गोंडा मंडल के उप निदेशक उद्यान अनीस श्रीवास्तव ने बताया कि कार्बोफ्यूरान तीन जी को खेत में डालना चाहिए।

अनीस श्रीवास्तव ने बताया कि माहू से भी टमाटर को नुकसान पहुंचता है। इसके लिए किसानों को इमीडाक्लोप्रिड 200 एसएल पांच मिली प्रति लीटर या डाइमेथोएट 30 ईसी एक मिली प्रति लीटर की दर से छिड़काव करना चाहिए।

यह खबर भी पढ़े: वायरल हो रहा है CTET परीक्षा की तारीख का फर्जी नोटिस, सरकार ने दी ख़ास सलाह

यह खबर भी पढ़े: IPL 2020/ लगातार हार से दुःखी है कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, मुंबई के खिलाफ मैच के बाद दिया बड़ा बयान

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended