संजीवनी टुडे

IAS अफसर अनुराग मामले में सीबीआई क्लोजर पर 27 को आएगा फैसला

संजीवनी टुडे 14-08-2020 16:37:21

विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट, सीबीआई ने कर्नाटक कैडर के आईएएस अफसर अनुराग तिवारी की रहस्यमय परिस्थितियों में हुई मौत के सम्बन्ध में उनके भाई मयंक तिवारी द्वारा दायर प्रोटेस्ट याचिका पर 27 अगस्त, 2020 के लिए फैसला सुरक्षित रख लिया


लखनऊ। विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट, सीबीआई ने कर्नाटक कैडर के आईएएस अफसर अनुराग तिवारी की रहस्यमय परिस्थितियों में हुई मौत के सम्बन्ध में उनके भाई मयंक तिवारी द्वारा दायर प्रोटेस्ट याचिका पर 27 अगस्त, 2020 के लिए फैसला सुरक्षित रख लिया।

कोर्ट ने यह आदेश मयंक की अधिवक्ता डॉ. नूतन ठाकुर तथा सीबीआई के अधिवक्ता को सुनने के बाद पारित किया।सीबीआई ने यह कहते हुए केस बंद कर दिया था कि मृतक द्वारा किसी बड़े घोटाले का पर्दाफाश करने या उनके बड़े अफसरों द्वारा मृत्यु का भय होने के आरोपों की मौखिक, लिखित तथा तकनीकी साक्ष्यों से पुष्टि नहीं हो सकी।

नूतन ने कोर्ट को बताया कि सीबीआई द्वारा विवेचना के कई महत्वपूर्ण बिन्दुओ को नजरअंदाज किया गया था तथा उन्होंने यह पूरी विवेचना पूर्वाग्रहपूर्ण दृष्टिकोण के साथ इस केस को दुर्घटना बताने के उद्देश्य से संपादित की। इस प्रकिया में सीबीआई ने कई सारे तथ्यों एवं साक्ष्यों को दरकिनार किया, कई महत्वपूर्ण फॉरेंसिक साक्ष्यों को छोड़ दिया एवं पोस्टमार्टम रिपोर्ट की जानबूझ कर गलत व्याख्या की।

उन्होंने बताया कि प्रोटेस्ट प्रार्थनापत्र में विवेचना की समस्त खामियों को प्रस्तुत करते हुए अंतिम रिपोर्ट को निरस्त करते हुए एसपी रैंक के अधिकारी से विवेचना करवाए जाने की प्रार्थना की गयी है।

सीबीआई के अधिवक्ता ने कहा कि केस के सभी पहलूओं को गंभीरता से देखा गया तथा मौत में किसी प्रकार की सदिग्ध स्थिति नहीं पायी गयी।

यह खबर भी पढ़े: ईडी ने हाई कोर्ट में कहा- टू-जी स्पेक्ट्रम केस की सुनवाई जल्द पूरी हो

यह खबर भी पढ़े: केजीएमयू लैब में 5,017 कोरोना नमूनों की जांच में 548 संक्रमित, लखनऊ के 435 रोगी

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended