संजीवनी टुडे

किसान हर गांव में भाजपा का खेत खोदकर जड़ से उखाड़ कर देगा जवाब : अखिलेश

संजीवनी टुडे 29-09-2020 19:19:57

किसान हर गांव में भाजपा का खेत खोदकर जड़ से उखाड़ कर देगा जवाब


लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि 2022 में किसानों को कारपोरेट घरानों का गुलाम बनाने वाला कानून अहंकारी भाजपा सत्ता के विरुद्ध जनआंदोलन का मुख्य कारण बन गया है। अब किसान हर गांव में भाजपा का खेत खोदकर उन्हें जड़ से उखाड़ कर बताएंगे कि कैसे 'न्यूनतम समर्थन मूल्य' के धोखे के बदले वह इनके विरुद्ध 'अधिकतम विरोध' कर भाजपा का ही दानापानी बंद कर देगा। उन्होंने मंगलवार को अपने बयान में कहा कि भाजपा ने बहुमत के बल पर विपक्ष की अनदेखी कर जो किसान विरोधी काला कानून पास किया है उसके विरुद्ध देशभर में हो रही प्रतिक्रिया को नज़रअंदाज करना उसे बहुत भारी पड़ेगा।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा की नीति और नीयत दोनों किसान हितों के विरोध की है। उसने किसानों की 2022 तक आय दोगुनी करने, लागत से डयोढ़ा गुना ज्यादा फसल की कीमत देने तथा कर्जमाफी के वादे किए थे। इनमें से एक भी वादा पूरा नहीं हुआ। जब आलू, प्याज जैसी जरूरी सब्जियों की जमाखोरी होती थी तो सरकारों के हाथों में कार्रवाई की शक्ति थी। भाजपा सरकार ने यह व्यवस्था खत्म कर दी। अब जमाखोर चाहे जितनी कालाबाजारी कर सकते हैं, जनता को लूटने की उन्हें आजादी मिल गई हैं। 

उन्होंने कहा कि यदि इस किसान विरोधी कानून से किसानों को राहत मिली होती तो अध्यादेश लागू होने के बाद भी मक्का की कीमत एक हजार रुपये प्रति कुंतल क्यों होती जबकि पिछले वर्ष यह 2200 रूपये प्रति कुंतल थी। भाजपा के झूठे प्रचार की अब हर दिन पोल खुल रही है।

अखिलेश ने कहा कि मंडियों में काम करने वाले लाखों मजदूर बेरोजगार हो गए हैं। किसान मारा-मारा घूम रहा है। बहुराष्ट्रीय कम्पनियां और कुछ उद्योगपति घात लगाए बैठे हैं कि किसान की उपज औने-पौने दाम देकर खरीद लें। दिल्ली से लेकर लखनऊ तक की सरकारें इसका ही इंतजार कर रही है। भाजपा सरकार को गन्ना किसानों के बकाये की चिंता नहीं है। चीनी मिल मालिकों की मनमानी पर रोक नहीं है। किसानों से भाजपा राज में जबरन जमीनें छीनी जा रही है। उन्हें उचित मुआवजा भी नहीं दिया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार को भू-अधिग्रहण पर सर्किल रेट बढ़ाकर छह गुना दाम किसानों को देना चाहिए। परिवार की स्थिति व जरूरत के हिसाब से किसान परिवार में किसी को नौकरी भी देनी चाहिए। सरकार कमजोर के हितों की पोषक होनी चाहिए न कि सत्ता मद में शोषणकारी बन जाना चाहिए।उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार एमएसपी और मंडी के नाम पर लोगों का सारा ध्यान फसल की खरीद फरोख्त में लगा देना चाहती है जबकि उसका असली उद्देश्य कृषि भूमि पर कब्जा करना है। 

यह खबर भी पढ़े: मुख्यमंत्री ने किया 1332 करोड़ रुपये की 68 परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended