संजीवनी टुडे

ताजमहल के मायूस फोटोग्राफरों को केंद्रीय मंत्री के ट्वीट से बंधी उम्मीदें

संजीवनी टुडे 14-07-2020 21:19:32

ताजमहल के मायूस फोटोग्राफरों को केंद्रीय मंत्री के ट्वीट से बंधी उम्मीदें


आगरा। विश्व धरोहर ताजमहल पूर्ण बंदी के चलते 17 मार्च से बंद है। इसके साथ ही फोटोग्राफरों की आमदनी भी बंद हो गई है, जिससे इनके सामने रोजी रोटी तक का संकट पैदा हो गया है। ऐसे में एएसआई के फीस जमा कर लाइसेंस के रिन्यूअल कराने के निर्देश ने फोटोग्राफरों के सामने मुश्किलें पैदा कर दी है। इस बीच केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने मंगलवार को ट्वीट कर फोटोग्राफरों की तसल्ली बांधी है। एएसआई ने 30 जून को फोटोग्राफरों को एक नोटिस भेजा था, जिसमें सभी फोटोग्राफरों को 15 जुलाई तक पूरी फीस जमा कर लाइसेंस रिन्यूअल कराने के निर्देश दिए थे। इसके बाद पुरातत्व फोटोग्राफर एसोसिएशन ने तीन जुलाई को केंद्रीय संस्कृति मंत्री के नाम एएसआई कार्यालय पर पुरातत्वविद बसंत कुमार स्वर्णकार को ज्ञापन दिया था। जिसमें ताजमहल के बंद रहने के दौरान लाइसेंस फीस माफ की जाने, पुराने व नए फोटोग्राफरों से एक समान लाइसेंस फीस लेने और फोटोग्राफरों की आर्थिक संकट के समय मदद करने की मांग की।

उसी पत्र को संज्ञान में लेते हुए केंद्रीय संस्कृत मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने मंगलवार को ट्वीट कर फोटोग्राफरों की तसल्ली बांधी है। उन्होंने लिखा है कि "मुझे विश्व विरासत ताजमहल के फोटोग्राफरों का निवेदन मिला था, जिसमें शुल्क कम करने और लाइसेंस की अवधि बढ़ाने की मांग की है। मैंने तत्संबंध महानिदेशक को निर्देश दिए हैं,ताकि आज फैसला हो सके। निर्णय की सूचना शीघ्र मिलेगी।"

 पुरातत्व फोटोग्राफर एसोसिएशन के अध्यक्ष सर्वोत्तम सिंह ने केंद्रीय मंत्री केसर ट्वीट का आभार जताया। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है फोटोग्राफरों के हित को ध्यान में रखते हुए फैसला लिया जाएगा। हमारी जो मांगे हैं सुबह पूर्ण की जाएंगी। क्योंकि पूर्ण बंदी के चलते ताजमहल पिछले चार महीनों से बंद है। अब भी या नहीं पता है कि यह सिलसिला कब तक चलेगा। जिसके चलते फोटोग्राफरों के सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया है। ऐसे में सरकार को सत्र 2020 -21 की लाइसेंस फीस माफ करनी चाहिए। आर्थिक संकट से जूझ रही फोटोग्राफरों को आर्थिक मदद भी देनी चाहिए। 2019 से पहले फोटोग्राफरों और उसके बाद के फोटोग्राफरों से अलग-अलग की फीस ली जाती है। उसे एक करना चाहिए।

यह खबर भी पढ़े: रूठों की मान-मनौव्वल के लिए मंगलवार को दोबारा बुलाई कांग्रेस विधायक दल की बैठक

यह खबर भी पढ़े: बिहार में 16 से 31 जुलाई तक संपूर्ण लॉकडाउन, कोरोना के बढ़ते मामले पर सरकार ने उठाए कठोर कदम

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended