संजीवनी टुडे

एसजीपीजीआई-बीआरडी में होगा भारत बायोटेक के कोरोना वैक्सीन का तीसरे फेज का ट्रॉयल

संजीवनी टुडे 24-09-2020 18:08:38

एसजीपीजीआई-बीआरडी में होगा भारत बायोटेक के कोरोना वैक्सीन का तीसरे फेज का ट्रॉयल


गोरखपुर। कोरोना वायरस से शुरू संघर्ष को अंजाम देने को लगातार हो रही कोशिशों के बीच एक अच्छी खबर है। आईसीएमआर और भारत बायोटेक द्वारा तैयार हुआ कोरोना वैक्सीन का ट्रायल अब लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई और गोरखपुर स्थित बीआरडी मेडिकल कालेज में होगा।बता दें कि इस वैक्सीन के दो फेज का ट्रायल हो चुका है। यह ट्रॉयल गोरखपुर शहर राना हॉ‌स्पिटल में सफलता पूर्वक हुआ है। तीसरे फेज का ट्रॉयल अब बीआरडी मेडिकल कॉलेज में होगा। तीसरे फेज के ट्रॉयल में हर उम्र और वर्ग के लोगों को शामिल किया जाएगा। इसे लेकर शासन की ओर से निर्देश जारी किए गए हैं। 

बता दें कि उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने तीसरे फेज के ट्रॉयल के लिए प्रदेश के दो सरकारी संस्थानों को शामिल करने के लिए भारत बायोटेक को पत्र लिखा था। इस पर भारत बायोटेक राजी हो गया है और प्रदेश में लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई और गोरखपुर में बीआरडी मेडिकल कॉलेज को ट्रॉयल की मंजूरी दी है। उन्होंने बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को पत्र भी भेजा है। इसकी पुष्टि प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने की है।

सबसे महत्वपूर्ण है तीसरा फेज ट्रायल 

विशेषज्ञों का कहना है कि किसी भी वैक्सीन का तीसरे फेज का ट्रायल सबसे महत्वूपर्ण होता है। इस फेज में 12 वर्ष से ऊपर और 60 साल से नीचे के लोगों को वांलटियर के तौर पर शामिल किया जाता है। इनकी संख्या भी अधिक रहती है। माना जा रहा है कि जिले में एक हजार से अधिक लोगों पर इस वैक्सीन का ट्रॉयल हो सकता है। यही वजह है कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

बोले प्राचार्य

इस सम्बन्ध में बाबा राघवदास (बीआरडी) मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉ गणेश कुमार का कहना है कि इस बावत बुधवार को पत्र मिला है। वैक्सीन के ट्रॉयल के ‌लिए सभी प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। गाइडलाइन आने के बाद ट्रायल में शामिल होने वाले लोगों की संख्या के बारे में कुछ कह जा सकता है। जरूरत हुई तो इसमें आरएमआरसी को भी शामिल किया जाएगा।

पहले-दूसरे फेज में सिर्फ 11 लोगों पर हुआ ट्रायल

ध्यातव्य हो कि भारत बायोटेक की ओर से कोरोना के लिए को-वैक्सीन बनाई गई है। इस वैक्सीन का ट्रॉयल देश भर 12 ‌‌संस्थानों में किया गया है। इसमें गोरखपुर के राना हॉस्पिटल को भी शामिल किया गया था। इस हॉस्पिटल में 31 जुलाई को पहले फेज का ट्रॉयल करते हुए 11 लोगों को को-वैक्सीन का डोज दिया गया था। जिन लोगों को वैक्सीन लगाया गया था, उनकी लगातार निगरानी भी की जा रही थी। सभी की सेहत ठीक मिलने पर 14 अगस्त को इन्हीं 11 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई थी। इसकी रिपोर्ट भी भारत बायोटेक और आईसीएमआर को भेजी गई थी। अब तीसरे फेज के ट्रॉयल की तैयारी है।

यह खबर भी पढ़े: ढाई करोड रूपये की साइबर ठगी करने वाले छह ठग गिरफ्तार

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended