संजीवनी टुडे

केजीएमयू लैब में 5,017 कोरोना नमूनों की जांच में 548 संक्रमित, लखनऊ के 435 रोगी

संजीवनी टुडे 14-08-2020 15:45:46

प्रदेश में कोरोना का तेजी से प्रसार का सिलसिला जारी है। खासतौर से राजधानी सहित अन्य प्रमुख शहरों में बढ़ रहा संक्रमण स्वास्थ्य महकमे के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है।


लखनऊ। प्रदेश में कोरोना का तेजी से प्रसार का सिलसिला जारी है। खासतौर से राजधानी सहित अन्य प्रमुख शहरों में बढ़ रहा संक्रमण स्वास्थ्य महकमे के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है। इसके मद्देनजर मुख्यमंत्री ने जनपद लखनऊ, कानपुर नगर, बरेली, प्रयागराज, गोरखपुर तथा वाराणसी के एल-2 तथा एल-3 कोविड अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाने के विशेष निर्देश दिए।राजधानी में गुरुवार को एक दिन में रिकॉर्ड 19 कोरोना मरीजों की मौत हुई। इनमें 14 मरीज लखनऊ के हैं। इसके अलावा 621 लोग संक्रमित पाए गए। 

इस बीच राजधानी की किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में गुरुवार को जांच किये गए 5,017 नमूनों में 548 की रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजिटिव आई। 

इनमें लखनऊ के 435, हरदोई के 24, शाहजहांपुर के 13, बाराबंकी-गोरखपुर के 10-10, प्रतापगढ़ के 09, सीतापुर के 08, लखीमपुर के 05, बस्ती के 04, कानपुर, उन्नाव, अयोध्या, देवरिया और कुशीनगर के 03-03, सुलतानपुर, गोण्डा, अम्बेडकरनगर और पीलीभीत के 02-02 तथा महराजगंज, आजमगढ़, रायबरेली, बलरामपुर, औरैया, बिजनौर और अलीगढ़ का 01-01 मरीज शामिल है। इसके साथ ही अन्य प्रयोगशालाओं की रिपोर्ट में भी कोरोना के नए मामलों की पुष्टि हुई है। 

इस बीच कोरोना का इलाज कर रहे निजी अस्पतालों की मनमानी पर अंकुश लगाने के लिए अहम आदेश जारी किया गया है। इसके तहत निजी अस्पताल जहां एडवांस एक मुश्त धनराशि नहीं जमा करा सकते हैं। वहीं भर्ती मरीजों के बिलिंग की एक कॉपी मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय भेजनी भी अनिर्वाय होगी। इससे मरीज में दूसरी बीमारी के नाम पर भी बिलों का फर्जीवाड़ा भी रोका जा सकेगा।

राजधानी में बीते दिनों निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना के मरीजों से एक मुश्त एक लाख रुपये एडवांस जमा कराने का मामला उछला। वहीं मरीज में कोविड के साथ-साथ विभिन्न बीमारियों का इलाज दिखाकर भी धनराशि वसूली जा रही है। इसके मद्देनजर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. आरपी सिंह ने सभी भर्ती कोरोना मरीजों का ब्योरा, उनके कोविड के इलाज के बिल व दूसरी बीमारी के किए गए इलाज के बिल की तीन प्रतियां जारी करने के निर्देश दिए हैं। इसमें बिल की एक कॉपी मरीज व एक कॉपी मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय को अवश्य देनी होगी। 

राजधानी के निजी कोविड अस्पतालों के लिए जारी आदेश में आइसोलेशन बेड के ऑक्सीजन समेत 10 हजार, आईसीयू बेड बिना वेंटिलेटर के 15 हजार व आईसीयू में वेंटिलेटर के साथ 18 हजार रुपये रोज का शुल्क है। 

यह खबर भी पढ़े: KGF 2 में विलेन अधीरा का किरदार निभा रहे है संजय दत्त, कैंसर ट्रीटमेंट के बीच कैसे पूरी करेंगे शूटिंग, कार्तिक गौड़ा ने दिया जवाब

यह खबर भी पढ़े: श्रीदेवी की 57वीं जयंती पर बोनी कपूर ने लिखा भावुक नोट, काश तुम यहां होती हमारी खुशी तुम्हारे बिना अधूरी

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From uttar-pradesh

Trending Now
Recommended