संजीवनी टुडे

ऑक्सीजन के बिना अंतरिक्ष में कैसे जिंदा रहते है इंसान, देखें VIDEO

संजीवनी टुडे 12-07-2019 13:56:48

इसके लिए आम से ख़ास बनना पड़ता है।


नई दिल्ली। अंतरिक्ष में घूमने का सपना तो दुनिया में बहुत लोगो का होता है पर चंद लोग ही इस को हासिल कर पाते है। जिनमें इसकी काबिलियत होती है वही इस मुकाम को हासिल कर पाते है। इसके लिए आम से ख़ास बनना पड़ता है। आसान नहीं है अंतरिक्ष में रह पाना।

आपको बता दें कि सामान्य पोशाक और स्थितियों में अंतरिक्ष में कदम नहीं रखा जा सकता है। आपने देखा होगा अंतरिक्ष यात्री हमेशा एक खास तरह की ड्रेस पहनते हैं। एक मोटा सा सूट और उस पर हेलमेट और ऑक्सीजन मास्क भी लगा रहता है। अंतरिक्ष में जाने के बाद अंतरिक्ष यात्रियों को यही सूट पहनना पड़ता है। इसे स्पेस सूट कहते हैं। 

 इस स्पेस सूट को पहने बगैर अंतरिक्ष में रहना संभव नहीं। स्पेस सूट की वजह से ही अंतरिक्ष के प्रतिकूल माहौल में अंतरिक्ष यात्री जीवित रह पाते हैं। इस स्पेस सूट को तैयार करने के लिए भी वैज्ञानिकों ने बहुत मेहनत और शोध किया है। यह सूट उस कपड़े से नहीं बना होता है, जिसे हम और आप पहनते हैं। 

 नासा के वैज्ञानिक अंतरिक्ष की स्थितियों का आंकलन करने के बाद अंतरिक्ष यात्रियों के लिए इस सूट को तैयार करते हैं। ABP की न्यूज़ के अनुसार ‘हार्ड अपर टोर्सो’ नामक पदार्थ का इस्तेमाल करते हुए अंतरिक्ष यात्रियों के सूट तैयार किये जाते हैं। इस सूट को पहनने के बाद हमारे शरीर का तापमान और बाहरी वातावरण से शरीर पर पड़ने वाला दबाव नियंत्रित रहता है। 

 इसके साथ ही यह सूट इस तरह से बनाया जाता है कि यह अंतरिक्ष में मौजूद हानिकारक किरणों से हमारे शरीर को बचाने के लिए कवच का काम करे। इस सूट के अंदर ही एक लाइफ सपोर्टिंग सिस्टम होता है, जिससे अंतरिक्ष यात्रियों को शुद्ध ऑक्सीजन प्राप्त होती है। इस सूट के अंदर गैस और द्रव पदार्थों को रीचार्ज और डिस्चार्ज करने की व्यवस्था भी होती है. इस सूट में ही अंतरिक्ष यात्री वहां से एकत्रित किये गए ठोस कणों को सुरक्षित रख सकते हैं। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From technology

Trending Now
Recommended