संजीवनी टुडे

Google Play Store पर छाया 'रिमूव चाइना ऐप्स, 10 लाख यूजर्स कर चुके डाउनलोड, जानें क्या है खूबियां?

संजीवनी टुडे 02-06-2020 06:01:00

भारत में एक ऐप काफी वायरल हो रहा है, जिसका नाम रिमूव चाइना ऐप्स है।


नई दिल्ली। भारत में एक ऐप काफी वायरल हो रहा है, जिसका नाम रिमूव चाइना ऐप्स है। यह एक एंड्रॉयड ऐप है जो एंड्रॉयड फोन से चीन निर्मित ऐप्स को पहचानने और उन्हें हटाने का दावा करता है। ऐप वर्तमान में गूगल प्ले स्टोर की टॉप फ्री ऐप की सूची में सबसे ऊपर है। इस ऐप को 17 मई को लॉन्च किया गया है, इसे अबतक 10 लाख से ज्यादा यूजर्स ने डाउनलोड कर लिया हैं।

यह ऐप ऐसे समय सुर्खियों में आया जब देश में चीन पर कोरोनोवायरस फैलाने का आरोप है और दूसरी तरफ भारत-चीन सीमा पर तनाव बढ़ रहा है। इसी भावना के चलते टिकटॉक के विकल्प के तौर पर मित्रों ऐप भी पॉपुलर हो गया था। रिमूव चाइना ऐप्स के निर्माता दावा करते हैं कि ऐप "शैक्षिक उद्देश्यों के लिए विकसित किया गया है" और यह यूजर्स को अपने एंड्रॉयड फोन पर इंस्टॉल ऐप्स किस देश में बने हैं यह पहचान करने की अनुमति देता है।

Remove China Apps topped Google Play Store more than 1 million users downloaded know

रिमूव चाइना ऐप्स गूगल प्ले स्टोप पर डाउनलोडिंग के लिए फ्री में उपलब्ध है। हालांकि, जैसा कि नाम से पता चलता है, यह केवल उन ऐप्स की पहचान करता है जो चीनी कंपनियों द्वारा विकसित किए गए हैं और यूजर्स यदि चाहें तो रिमूव चाइना ऐप के माध्यम से उन्हें अन-इंस्टॉल भी कर सकते हैं। ऐप को काफी हद तक गूगल प्ले स्टोर पर 4.8 रेटिंग के साथ सकारात्मक समीक्षा मिली है। इसके अलावा, रिमूव चाइना ऐप्स को वनटच ऐपलैब्स द्वारा डेवलप किया गया है, यह केवल गूगल प्ले स्टोर पर लिस्टेड है।

वनटच ऐपलैब्स का दावा है कि कंपनी जयपुर में स्थित है और डोमेन ऑनरशिप साइट के मुताबिक यह वेबसाइट 8 मई को बनाई गई थी। वनटच ऐपलैब्स वेबसाइट यह भी बताती है कि कंपनी एंड्ऱॉयड और आईओएस ऐप डेवलपमेंट और हाइब्रिड ऐप डेवलपमेंट में सेवाएं प्रदान करती है। कई लोगों का मानना ​​है कि चीन के टिकटॉक के लिए भारत की प्रतिक्रिया है, हालांकि हाल ही में आई एक रिपोर्ट में संकेत दिया गया था कि मित्रों ऐप का सोर्स कोड एक पाकिस्तानी फर्म से खरीदा गया है।

देश में जब चीन विरोधी भावनाएं बढ़ रही हैं, उस समय रिमूव चाइना ऐप्स को व्यापक रूप से डाउनलोड किया जा रहा है। इस भावना को कई विवादों जैसे कि YouTube बनाम TikTok, भारत-चीन सीमा विवाद, और देश में चल रही कोडिव-19 महामारी द्वारा फैलाया गया है। विशेष रूप से, एक सर्वे ने हाल ही में संकेत दिया कि 67 प्रतिशत भारतीय कोविड-19 महामारी के प्रसार के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराते हैं।

यह खबर भी पढ़े: राजस्थान/ चूरू में सड़क दुर्घटना में 5 की मौत, CM ने ट्वीट कर हादसे पर जताया दुख

यह खबर भी पढ़े: जयपुर: SMS अस्पताल हुआ कोरोना फ्री, अब मरीजों का इलाज RUHS में होगा

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From technology

Trending Now
Recommended