संजीवनी टुडे

अनुच्छेद 370 और 35ए हटाए जाने के बाद प्रीपेड सेवाओं पर रोक जारी, कई नेता अभी नजरबंद

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 06-12-2019 20:51:05

श्रीनगर की ऐतिहासिक जामा मस्जिद को छोड़ कर कश्मीर घाटी में अन्य मस्जिदों पर शुक्रवार की नमाज अदा की गयी। इस दौरान किसी भी तरह के प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बल भी तैनात रहे।


श्रीनगर। कश्मीर में केंद्र सरकार की तरफ से पांच अगस्त को संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए हटाए जाने के बाद घाटी में अभी भी प्रीपेड इंटरनेट सेवाएं शुरू नहीं की गयी हैं जिसकी वजह से शुक्रवार को भी जनजीवन प्रभावित रहा। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ फारूक अब्दुल्ला और उनके पुत्र उमर अब्दुल्ला तथा महबूबा मुफ़्ती तथा कई अन्य नेता पांच अगस्त से ही नजरबन्द हैं।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​राहुल गांधी ने शहला के घर और स्कूल का किया दौरा, बालिका के माता-पिता और परिजनों से की मुलाकात

इसके अलावा बड़ी संख्या में केंद्रीय अर्धसैनिक बल के जवान विभ्भिन इलाकों में कड़ी ठंड के बीच तैनात हैं। घाटी या श्रीनगर के किसी भी इलाके में कर्फ्यू नहीं लगाया गया है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि श्रीनगर की ऐतिहासिक जामा मस्जिद को छोड़ कर कश्मीर घाटी में अन्य मस्जिदों पर शुक्रवार की नमाज अदा की गयी। इस दौरान किसी भी तरह के प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बल भी तैनात रहे।

श्रीनगर तथा ऐतिहासिक लाल चौक पर शुक्रवार को गतिविधियां सामान्य रहीं जहां व्यावसयिक प्रतिष्ठान खुल गये हैं। घंटाघर, कोर्ट रोड़, मैसुमा, कोकर बाजार में हालांकि सुबह एक घंटे खुलने के बाद अधिकतर दुकानें बंद हो गयीं।

ठण्ड के साथ आये घने कोहरे की वजह से कई क्षेत्रों में यातायात भी प्रभावित हुआ। प्रदेश में कई जगहों पर अभी हड़ताल का असर है जहां पिछले एक महीने से दुकानें खुल तो रही हैं लेकिन केवल चार से पांच घंटों के लिए ही। कई इलाकों में दुकानें हालांकि पूरे दिन के लिए भी खुल रही हैं। इसी तरह की रिपोर्ट कश्मीर घाटी के अन्य इलाकों से भी आयी है। प्रीपेड मोबाइल तथा ब्रॉडबैंड सेवाओं के बंद होने की वजह से छात्र, पत्रकार, व्यापारी खासा प्रभावित हुए हैं।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended