संजीवनी टुडे

पूर्व सांसद के भाजपा में आने पर संसदीय क्षेत्र में बदलेंगे समीकरण

संजीवनी टुडे 22-03-2019 21:06:29


हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के 47 लोकसभा क्षेत्र में बसपा के पूर्व विधायक राजनारायण बुधौलिया के शुक्रवार को पार्टी छोड़कर भाजपा की सदस्यता लेने के बाद यहां राजनैतिक हल्कों में हलचल मच गयी है। राजनारायण बुधौलिया यहां के प्रभावशाली लोगों में प्रमुख माने जाते हैं जो एक बार सपा के टिकट से चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे थे। यदि उन्हें लोकसभा चुनाव के लिये भाजपा ने प्रत्याशी बनाया तो बसपा सपा गठबंधन को तगड़ा नुकसान होना तय है।

हमीरपुर जिले के राठ कस्बे के रहने वाले राजनारायण बुधौलिया वर्ष 1996 में लोकसभा चुनाव में सपा के टिकट से किस्मत आजमाया था। उन्हें पहली मर्तबा ही 105258 मत मिले थे। वह भाजपा के गंगाचरण राजपूत से पराजय मिली थी लेकिन जातीय समीकरणों के पक्ष में आने से वह दूसरे स्थान पर रहे थे। राजनारायण बुधौलिया ने वर्ष 1998 के लोकसभा चुनाव में अपना भाग्य अजमाया था।+

 मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166
सपा की साईकिल में सवार होकर राजनारायण बुधौलिया ने चुनाव को दिलचस्प मोड़ पर पहुंचाया था लेकिन वह भाजपा प्रत्याशी गंगाचरण राजपूत से पराजित हो गये थे। उन्हें 183673 मत मिले थे। वर्ष 1999 के लोकसभा चुनाव में राजनारायण बुधौलिया ने फिर सपा से चुनाव लड़ा तब उन्हें 206131 मत मिले थे। वह बसपा प्रत्याशी अशोक सिंह चंदेल से जातीय समीकरणों के उलटफेर के कारण दूसरे स्थान पर रहे। तीन बार हैट्रिक लगाने वाले भाजपा प्रत्याशी गंगाचरण राजपूत तीसरे स्थान पर रहे। वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में राजनारायण बुधौलिया ने समाजवादी पार्टी के टिकट से फिर चुनावी समर में आये और उन्होंने बसपा प्रत्याशी अशोक सिंह चंदेल को पराजित कर जीत का परचम फहराया था। 

उन्हें 220917 मत मिले थे। पांच साल तक संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले बुधौलिया ने बाद में सपा छोड़ दी थी। उन्होंने वर्ष 2012 में बसपा के टिकट से महोबा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़कर जीत का परचम फहराया था। बुधौैलिया बसपा में अपनी उपेक्षा के कारण मायूस थे। बसपा ने महोबा के कबरई निवासी संजय साहू को हमीरपुर लोकसभा क्षेत्र का प्रभारी बनाया तो राजनारायण बुधौलिया तिलमिला गये थे। 

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले शुक्रवार के दिन उनके पार्टी छोड़कर भाजपा के पाले में जाने से यहां संसदीय क्षेत्र में समर्थक खुशी से झूम उठे है। पूर्व सांसद बुधौलिया के साथ ही नगर पालिका परिषद राठ के चेयरमैन श्रीनिवास बुधौलिया और कई समर्थकों के भाजपा में शामिल होने पर यहां सपा और बसपा गठबंधन के नेताओं में हलचल मच गयी है।

 बुधौैलिया का संसदीय क्षेत्र के महोबा, राठ और चरखारी क्षेत्र में खासा दबदबा है जिससे कांग्रेस प्रत्याशी प्रीतम सिंह भी सकते में आ गये है। यहां के बुजुर्ग भाजपाई बाबूराम प्रकाश त्रिपाठी समेत कई लोगों ने बताया कि यदि संसदीय क्षेत्र में राजनारायण बुधौलिया को भाजपा ने प्रत्याशी घोषित कर दिया तो गठबंधन दल के प्रत्याशी को तगड़ा झटका लगना तय है। फिलहाल अभी भाजपा के उम्मीदवार का नाम घोषित होना बाकी है। सभी दलों के पत्ते खुलने के बाद यहां स्थिति और स्पष्ट होगी।
 
राजनारायण बुधौलिया पर लगा था सदस्यों के अपहरण का आरोप 
तत्कालीन जिला पंचायत अध्यक्ष घनश्याम अनुरागी के अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के दौरान कलेक्ट्रेट से पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बसपा समर्थित कई जिला पंचायत सदस्यों का अपहरण हुआ था। इस घटना के बाद बसपा ने यहां जमकर हंगामा काटा था। उस समय तत्कालीन जिलाधिकारी अमित गुप्ता ने भी इस मामले में सख्त कार्यवाही के लिये शासन को पत्र लिखा था। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

अविश्वास प्रस्ताव के बाद अपहत जिला पंचायत सदस्यों को पुलिस ने ढूंढ निकाला था। उस समय तत्कालीन सांसद राजनारायण बुधौलिया पर सदस्यों के अपहरण कराने का आरोप लगा था। उन्हें पूरे संसदीय क्षेत्र के अलावा बुन्देलखण्ड क्षेत्र में इस घटना को लेकर सफाई देनी पड़ी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended