संजीवनी टुडे

छत्तीसगढ़ में शादी की अनोखी रस्म

संजीवनी टुडे 09-07-2019 18:39:36

छत्तीसगढ़ी संस्कृति और राजभाषा को बढ़ावा देने बलौदाबाजार जिले के कटगी गांव में रहने वाले शाहजीत परिवार ने एक अनोखी पहल की शुरुआत की है।


रायपुर। छत्तीसगढ़ी संस्कृति और राजभाषा को बढ़ावा देने बलौदाबाजार जिले के कटगी गांव में रहने वाले शाहजीत परिवार ने एक अनोखी पहल की शुरुआत की है। दरअसल घर के मुखिया बाबूलाल शाहजीत के दो बेटों श्रवण और संजय की शादी का कार्ड पूरी तरह से छत्तीसगढ़ी में ही छपवाया है। शादी समारोह 8 से 11 जुलाई गुरूवार तक चलेगी। इस कार्ड की विशेषता यह भी है इसमें माता पिता से लेकर बच्चों के नाम के लिए सम्बोधित करने वाले शब्द में भी छत्तीसगढ़ी का प्रयोग किया गया है। 

दुलरवा श्रवण, दुलौरिन ममता। दुलरवा संजय दुलौरिन अनुप्रिया के मंगल बिहाव में शामिल होने के लिए पूरी तरह से छत्तीसगढ़ी में ही लोगों से अपील किया गया है। आवभगत करईया याने की आवभगत करने वालों का नाम भी और उनका दूल्हा और दुल्हन से रिश्ते को भी छत्तीसगढ़ी में दर्शाया गया है। विनीत के जगह पर विनती करईया श्रीमती भानमती और श्री बाबूलाल शाहजीत का नाम लिखा हुआ है। नेंग जोंग भी लिखा गया है। इसके साथ ही शादी में होने वाले सभी रस्म अदायगी को लेकर भी छत्तीसगढ़ी का ही प्रयोग किया गया है। जैसे चुलमाटी, देवताधामी हरदियाही खेलबो, श्रवण के बरात जाबो, संजय के बरात जाबो, यह सारी चीजें छत्तीसगढ़ी में ही लिखी गई हैं। 

ु

पर‍िवार के मुख‍िया बाबूलाल शाहजीत ने मंगलवार को बताया कि इस कार्ड को छत्तीसगढ़ी में छपवाने के पीछे उनका उद्देश्य छत्तीसगढ़ी को बढ़ावा देना है। शादी में दूल्हा श्रवण और संजय उच्च शिक्षा की पढ़ाई कर चुके हैं। साथ ही उनकी जीवन संगिनी बनने वाली दोनों दुल्हन भी पढ़ाई में अव्वल रही हैं। दूल्हा श्रवण और संजय बताते हैं कि उनका मकसद छत्तीसगढ़ी को आगे लाना है। वैसे शादी का यह कार्ड हर जगह पर चर्चा का विषय बना हुआ है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended