संजीवनी टुडे

डॉक्टर से मारपीट मामले में दो पुलिसकर्मी निलंबित

संजीवनी टुडे 13-01-2019 21:58:23


नई दिल्ली। सफदरजंग अस्पताल में ऑन ड्यूटी डॉक्टर के साथ मारपीट करने के मामले में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने दो पुलिसकर्मिंयों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निलंबित किए गए पुलिसकर्मिंयों की पहचान हेड कॉन्स्टेबल वीरेन्द्र और कॉन्स्टेबल विनोद के रूप में हुई है। दोनों ही सफदरजंग अस्पताल की पुलिस चौकी में तैनात थे। 

पुलििष्ठ अधिकारी ने बताया कि हेड कॉन्स्टेबल वीरेन्द्र के बेटे अक्षय ने दोनों पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में इलाज के दौरान डॉक्टर रविन्द्र नाथ ठाकुर की पिटाई की थी। आरोप है कि घटना के दौरान दोनों पुलिसकर्मिंयों ने बीच-बचाव करने की बजाय आरोपी का ही साथ दिया। 

पुलिस ने बताया कि पुलिस पीसीआर को रविवार सुबह सात बजे के करीब सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टर रविन्द्र के साथ मारपीट की जानकारी मिली थी। जांच में पता चला कि हेड कॉन्स्टेबल वीरेन्द्र का बेटा अक्षय पेट दर्द की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंचा था, जहां उसका डॉक्टर के साथ विवाद हो गया। उसने डॉक्टर के साथ मारपीट की। पुलिस उपायुक्त देवेन्द्र आर्या ने बताया कि मामले की जांच के दौरान आरोपित के पिता हेड कॉन्स्टेबल वीरेन्द्र और कॉन्स्टेबल विनोद की तरफ से लापरवाही बरते जाने के बारे में पता चलने पर विभागीय कार्रवाई करते हुए दोनों को निलंबित किया गया है। इतना ही नहीं पुलिस ने आरोपित के खिलाफ मारपीट, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने सहित अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली गई और जांच की जा रही है। 

सफदरजंग में रेजिडेंट डाक्टरों ने सुरक्षा की मांग की 
पुलिस कॉन्स्टेबल के रौब के विरोध में सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने हड़ताल की तथा सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक शिफ्ट में कम से कम पंद्रह मार्शल तैनात करने की मांग की है। साथ ही सफदरजंग अस्पताल के आपातकालीन विभाग के नए भवन में 200 निजी सुरक्षा गार्ड तैनात करने की भी मांग की है। सफदरजंग अस्पताल के रेजिडेंट्स डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रकाश ठाकुर ने बताया कि डॉक्टरों के साथ मारपीट की घटनाओं को देखते हुए निजी सुरक्षा गार्ड तैनात करने की जरूरत है, इसलिए जबतक हमें सुरक्षा नहीं मिलती हड़ताल जारी रहेगी। चिकित्सा अधीक्षक को पत्र लिखकर उन्होंने अस्पताल में प्रत्येक शिफ्ट में 15 माशर्ल तैनात करने की मांग की है, जिसमें महिला सुरक्षाकर्मी भी शामिल करने की बात कही गई है। साथ ही डॉक्टरों के साथ होने वाली घटना पर भत्ते की भी मांग की गई है। 

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended