संजीवनी टुडे

अंबाबाड़ी एवीएम में श्रद्धांजलि सभा, दिवंगत वरिष्ठतम संघ प्रचारक धनप्रकाश पंचतत्व में विलीन

संजीवनी टुडे 26-01-2020 11:15:42

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिवंगत वरिष्ठतम प्रचारक धनप्रकाश शनिवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। सुबह 7 बजे त्यागी की पार्थिव देह को संघ के क्षेत्रीय कार्यालय भारती भवन में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया।


जयपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिवंगत वरिष्ठतम प्रचारक धनप्रकाश शनिवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। सुबह 7 बजे त्यागी की पार्थिव देह को संघ के क्षेत्रीय कार्यालय भारती भवन में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। जहां बड़ी संख्या में स्वयंसेवकों व समाज जीवन से जुड़े अनेकों लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

ये खबर भी पढ़े: 71st Republic Day: जानिए गणतंत्र दिवस से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य और क्या हैं पंडित जवाहरलाल नेहरू से इसका रिश्ता

Swayamsevak Sangh

भारती भवन में स्वयंसेवक मदन ने सर्वप्रथम धनप्रकाश को माल्यार्पण कर नमन किया। इसके बाद संघ के अखिल भारतीय बौद्धिक प्रमुख स्वांत रंजन, गो सेवा प्रमुख शंकरलाल, अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इन्द्रेश कुमार, क्षेत्र प्रचारक दुर्गादास व सहक्षेत्र प्रचारक निम्बाराम ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

Swayamsevak Sangh

महेश नगर स्थित सेवा भारती विद्यालय की बालिकाओं ने भी श्रद्धांजलि दी, जहां उनके गायन से मौजूद लोग भावुक हो गए। बाद में बालिकाओं ने श्रीमद्भागवत गीता व रामधुनी का संगीतमय गायन किया। सुबह साढ़े 9 बजे अंतिम यात्रा भारती भवन से चांदपोल मुक्तिधाम के लिए रवाना हुई। जहां संघ के स्वयंसेवकों ने बारी-बारी से अर्थी को कंधा दिया।

Swayamsevak Sangh

इसके बाद उनकी पार्थिव देह को सुसज्जित वाहन में रखकर मुक्तिधाम ले जाया गया। जहां मार्ग में जगह-जगह स्वयंसेवकों ने पुष्पवर्षा कर भारत माता के जयकारे लगाए, जहां आंखें नम हो गई। इस दौरान अभा कार्यकारिणी सदस्य गुणवंतसिंह, क्षेत्रीय सेवा प्रमुख शिवलहरी, वरिष्ठ प्रचारक माणकचंद, राजेन्द्र कुमार, मूलचंद सोनी, रामप्रसाद, प्रकाशचंद, जयपुर प्रांत प्रचारक डॉ. शैलेन्द्र, चित्तौड़ प्रांत प्रचारक विजयानंद समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। भारती भवन संघ कार्यालय प्रमुख सुदामा ने बताया कि श्रद्धांजलि सभा 26 जनवरी, रविवार को अपराह्न 3 बजे से आदर्श विद्या मंदिर अम्बाबाड़ी में आयोजित होगी।

Swayamsevak Sangh

गाय के गोकाष्ट से किया दाह संस्कार

आम तौर दाह संस्कार में कई प्रकार की लकडिय़ों का उपयोग किया जाता रहा है, लेकिन संघ के दिवंगत प्रचारक धनप्रकाश त्यागी के दाह संस्कार में गाय के गोबर से बनी लकडिय़ों दगोकाष्ट½ का उपयोग किया गया। गोपालन से जुड़े लोगों ने बताया कि गोबर से बने उपलों या गोकाष्ट का उपयोग करने से पर्यावरण प्रदूषण पर अंकुश लगेगा। यदि इसे बढ़ावा दिया जाए तो गोपालन को प्रोत्साहन मिलेगा तथा पर्यावरण संरक्षण भी संभव होगा।

 जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended