संजीवनी टुडे

शरणार्थियों की मदद के लिए लेना होगा प्रण : मुख्यमंत्री

संजीवनी टुडे 20-06-2019 10:23:19

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विश्व शरणार्थी दिवस के मौके पर कहा है कि दुनियाभर के विभिन्न हिस्सों में बेघर होकर शरण लेने वाले लोगों की मदद के लिए हमें प्रतिज्ञा करनी होगी।


कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विश्व शरणार्थी दिवस के मौके पर कहा है कि दुनियाभर के विभिन्न हिस्सों में बेघर होकर शरण लेने वाले लोगों की मदद के लिए हमें प्रतिज्ञा करनी होगी। गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री ने इस बारे में ट्वीट किया। 

अपने ट्वीट में सीएम ने लिखा, 'आज विश्व शरणार्थी दिवस है। यह ऐसा मौका है जब हमें बेघर लोगों की मदद के लिए प्रतिज्ञा करनी चाहिए। जिन लोगों के अपने खो गए, जिनके घर छीन लिए गए उनके साथ मदद के लिए खड़ा होना मानवीय कार्य है।' 

प्रत्येक वर्ष 20 जून को संपूर्ण विश्व में ‘विश्व शरणार्थी दिवस’ मनाया जाता है। यह दिवस विश्वभर में शरणार्थियों की स्थिति के प्रति जागरुकता बढ़ाने हेतु मनाया जाता है। विश्व शरणार्थी दिवस 2019 का विषय (थीम)– 'रिफ्यूजियों से हमारा वैश्विक रिश्ता' है। इस वर्ष गुरुवार 20 जून को ‘विश्व शरणार्थी दिवस’ मनाया जा रहा है। यह दिवस उन लोगों के साहस, शक्ति और संकल्प के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है, जिन्हें युद्ध, प्रताड़ना, संघर्ष और हिंसा की चुनौतियों के कारण अपना देश छोड़कर बाहर भागने को मजबूर होना पड़ता है। शरणार्थियों की दुर्दशा की ओर ध्यान आकर्षित करने और शरणार्थी समस्याओं को हल करने के लिए ही यह दिवस मनाया जाता है। 

विश्व के अनेक देश अलग-अलग तिथियों में अपने यहां शरणार्थी दिवस मनाते हैं। इनमें सबसे महत्वपूर्ण अफ्रीका शरणार्थी दिवस है, जो 20 जून को प्रति वर्ष मनाया जाता रहा है। दिसंबर 2000 में संयुक्त राष्ट्र ने अफ्रीका शरणार्थी दिवस यानी 20 जून को प्रतिवर्ष विश्व शरणार्थी दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया। वर्ष 2001 से प्रति वर्ष संयुक्त राष्ट्र के द्वारा 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस मनाया जा रहा है। 

मानवता के नाते सारे संसार में यह विचार फैलाना है कि ग्लोबल विलेज के युग में पृथ्वी एक देश है और हम सभी इसके नागरिक हैं। धरती हमारी माता है और हम सभी इसके पुत्र-पुत्रियां हैं। हृदय को विशाल करके सोचे तो कोई भी इंसान अमान्य नहीं होता फिर चाहे वह इस सुन्दर धरती के किसी भी देश का हो। 

विश्व एकता और विश्व बन्धुत्व की भावना रखते हुए हमें विश्व के सभी शरणार्थियों को मान्यता, सम्मान, सराहना, सुविधा तथा सुरक्षा देनी चाहिए। म्यांमार, लीबिया, सीरिया, अफगानिस्तान, मलेशिया, यूनान और अधिकांश अफ्रीकी देशों से हर साल लाखों नागरिक दूसरे देशों में शरणार्थी के रूप में शरण लेते हैं।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended