संजीवनी टुडे

राजस्थान में तीसरे दल की जरूरत, राजनीति में परिवर्तन के लिए आध्यात्मिकीकरण जरूरी-अखिलेश

संजीवनी टुडे 22-01-2018 21:00:47

Third party needs in Rajasthan spiritualization needed for change in politics Akhilesh

धौलपुर। दीनदयाल युवा वाहिनी के संयोजक एवं सांगानेर विधायक घनश्याम तिवाड़ी के पुत्र अखिलेश तिवाड़ी ने कहा है कि राजस्थान में तीसरे दल की जरूरत है। प्रदेश की जनता कांग्रेस व भारतीय जनता पार्टी से ऊब चुकी है। दोनों ही पार्टी 5-5 साल राज कर जनता के खून-पसीने की कमाई को लूट रही हैं।

यह भी पढ़े: दूल्हा-दुल्हन का एेसा डांस देख नहीं रुकेगी हंसी, देखें वीडियो

ghanshaym tiwadi

यह बात उन्होंने दूरदराज से आए युवाओं को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि राज्य में बढ़ती गरीबी और बेरोजगारी ने आर्थिक दृष्टि से कमजोर लोगों का जीवन दुश्वार कर दिया है। इसके बावजूद सत्तारूढ़ भाजपा की सरकार आश्वासन देकर घावों पर मरहम लगा रही है। उन्होंने कहा कि दल चाहे कितने ही बन जाएं, बिना आध्यात्मिकता के समस्याओं पर पार पाना संभव नहीं है। मुद्दा राष्ट्रीय स्तर का हो या फिर प्रदेश स्तर का, राजनीतिक दलों के नेता एकमत नहीं होते हैं, ऐसी स्थिति में समस्या सुलझने के बजाय उलझ जाती है। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि दोनों ही पार्टियों ने 5-5 साल का समझौता कर लिया है। समस्याओं के समाधान एवं राजनीति में परिवर्तन के लिए आध्यात्मिकीकरण जरूरी है। 

इससे पूर्व तिवाड़ी ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि आध्यात्मिकता के बिना विद्वेष और परस्पर वैमनस्यता की राजनीति को रोक पाना संभव नहीं है। उन्होंने राजनीतिक दलों पर आरोप लगाए बिना कहा कि दोहरी राजनीति का खामियाजा आमजन को भोगना पड़ रहा है। उन्होंने एफडीआई का उदाहरण देते हुए कहा कि जो लोग सत्ता से बाहर थे। तब एफडीआई का विरोध करते थे और आज वे ही लोग सत्ता में आने के बाद उसे लागू कर रहे हैं, यदि एफडीआई से जनता को लाभ था तो पहले विरोध क्यों किया ? उन्होंने कहा कि इस तरह की दोहरी राजनीति के चलते राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों के साथ-साथ स्थानीय मुद्दे भी गौण हो जाते हैं। वहीं देश और समाज का अपेक्षित विकास भी नहीं हो पाता है। दोहरी राजनीति से द्वेष और परस्पर वैमनस्यता बढ़ती है और इसके लिए आध्यात्मिकीकरण जरूरी है। 

ghanshaym tiwadi

यह भी पढ़े:कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने की पुलिस अधिकारी के साथ बदतमीजी

संयोजक ने कहा कि परस्पर वैमनस्यता और द्वेष की राजनीति का अंत करने के लिए दीनदयाल युवा वाहिनी कृत संकल्पित है। इसके लिए उसने राज्य के 200 विधानसभा क्षेत्रों में कार्यकारिणी का गठन करने व प्रत्येक पोलिंग बूथ के लिए 5 से 10 कार्यकर्ताओं की फौज खड़ी करने का निर्णय लिया है। यह मार्च के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव में दीनदयाल वाहिनी के कार्यकर्ताओं को उतारने के प्रश्न के जवाब में कहा कि इस बारे में अभी से कुछ कहना जल्दबाजी होगा।

More From state

loading...
Trending Now
Recommended