संजीवनी टुडे

भौतिक सुखों के पीछे भागते मानव का आध्यात्मिक विकास रुकता जा रहा : निर्मला बहन

संजीवनी टुडे 31-03-2019 17:49:24


रांची। ब्रह्माकुमारी संस्थान की संचालिका निर्मला बहन ने कहा कि भौतिक सुखों के पीछे भागते मानव का आध्यात्मिक विकास रुकता जा रहा है। आत्मिक बल के अभाव के कारण नैतिक मूल्यों का बहुत पतन हो गया है। ब्रह्माकुमारी संस्थान द्वारा लाये गये पाठ्क्रमों से आनेवाला युग एक बेहतर, आनंदमय और खुशनुमा होगा। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

निर्मला बहन रविवार को राजयोग प्रवचन के उद्घाटन समारोह में बोल रही थीं। उन्होंने कहा कि ध्यान, ज्ञान और आत्मविश्वास ही ऐसे साधन हैं, जिनसे आत्मा जागृत होती है। इनके इस्तेमाल से उत्पन्न विवेक-बुद्धि से ही हम वास्तविकता को समझ पाते हैं। इसके उत्पन्न होते ही अन्दर की ज्ञान ज्योति प्रज्ज्वलित हो जाती है और अज्ञान का अंधकार मिट जाता है। परमात्मा शक्तियों और वरदानों की अनुभूति कार्यक्रम में उन्होंने कहा, भगवान ही आनन्द का शिखर है। ध्यान के बाद श्रद्धा उत्पन्न करने का दूसरा साधन ज्ञान है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

शरीर की सेवा भौतिक साधनों से करने के साथ-साथ आत्मा की उन्नति के लिए राजयोग का अभ्यास जरूरी है। श्रद्धायुक्त राजयोग अभ्यास मनुष्य को शालीन और संस्कारवान बनाता है। ब्रह्माकुमारी संस्थान की बहनें अपने सात्विक गुणों और सेवाभाव से विश्व में श्रद्धा की मूर्ति बन गयी हैं। उन्होंने कहा कि जिसने आत्मिक आनन्द और दिव्य शान्ति की अनुभूति कर ली है, उसे क्षणिक इन्द्रिय सुख आकृष्ट नहीं कर सकते। आध्यात्मिक परिपक्वता आने पर सांसारिक वासनाएं और तृष्णा स्वयं नष्ट हो जाती है।

More From state

Trending Now
Recommended