संजीवनी टुडे

धान के खेतों पर बरसात का कहर, पानी की बूंद-बूंद से तरसना पड़ रहा था वही अब...

संजीवनी टुडे 14-07-2019 18:07:47

जिस धान को पानी की बूंद-बूंद से तरसना पड़ रहा था वही अब बरसात के पानी की अधिकता के चलते जमींदोज होने के कगार पर पहुंच गई है।


इस्माईलाबाद। जिस धान को पानी की बूंद-बूंद से तरसना पड़ रहा था वही अब बरसात के पानी की अधिकता के चलते जमींदोज होने के कगार पर पहुंच गई है। बालापुर गांव के पास सैकड़ों एकड़ में खड़ी धान की फसल बरसात के पानी की चपेट में आ चुकी है। यहां पानी का स्तर लगातार बढ़ रहा है। हालत यह है कि खेतों और सड़क पर खड़े दो फुट गहरे पानी का लेवल एक हो चुका है। यहां सड़क पर आवागमन लगातार प्रभावित हो रहा है। किसान राम कुमार और नरेंद्र ने बताया कि काफी खेतों की तो धान दो दिन से पानी में ही डूबी हुई है।

इन किसानों ने बताया कि ऊपरी इलाके का पानी लगातार बढ़ रहा है। इन किसानों ने बताया कि पानी की तेज रफ्तार धान के लिए कहर साबित हो रही है। ऐसी ही हालत गंगहेड़ी के आसपास है। यहां किसानोंं ने बताया कि ऊपरी इलाके के पानी ने निचले खेत तालाब बना डाले हैं। इस पानी का विकल्प नहीं है। कस्बे के बाईपास के पास पीर खाना के खेत भी पानी से लबालब हैं। कुल मिलाकर जिस बरसात से रहमत बरसी थी वही अब आफत साबित हो रही है। इसका सामने करते किसान कहते हैं कि यदि अब बरसात का दौर जारी रहा तो धान की फसल को बचाना ही मुश्किल हो जाएगा। बरसात के कारण गांवों के आसपास भी बरसाती पानी आफत साबित हो रहा है। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From state

Trending Now
Recommended