संजीवनी टुडे

घर लौटे प्रवासी मजदूरों के सामने गहराया रोजी-रोटी का संकट, नहीं दिया जा रहा काम

संजीवनी टुडे 24-05-2020 17:26:23

लॉकडाउन की वजह से गैर प्रांतों व शहरों से लौट रहे प्रवासियों के लिए प्रशासन द्वारा तमाम सुविधाओं का दावा किया जा रहा है लेकिन स्थिति इससे उलट है।


औरैया। लॉकडाउन की वजह से गैर प्रांतों व शहरों से लौट रहे प्रवासियों के लिए प्रशासन द्वारा तमाम सुविधाओं का दावा किया जा रहा है लेकिन स्थिति इससे उलट है। भाग्यनगर की ग्राम पंचायत टीकमपुर में असलियत कुछ और ही बयां कर रही है।गांव में आए प्रवासियों को काम धंधा न मिलने की वजह से उनके सामने परिवार का भरण पोषण कर पाना कठिन हो रहा है।

लॉक डाउन की यह कहानी विकासखंड भाग्यनगर की ग्राम पंचायत टीकमपुर गांव की है। समाजसेवी प्रशांत त्रिपाठी ने बताया है कि टीकमपुर गांव के दर्जनों गरीब मजदूर परिवार अपने बच्चों का पेट पालने के खातिर हरियाणा, दिल्ली, नोएडा, फरीदाबाद, लुधियाना जैसे शहरों से इस आस के साथ अपने गांव वापस लौट आए  हैं। शायद अब यहां उन्हें मनरेगा में काम मिलेगा, जिससे दो वक्त की रोटी मिल सकेगी। काम की खातिर वह ग्राम प्रधान रामबाबू राजपूत व ग्राम पंचायत विकास अधिकारी प्रेमचंद से मिले और अपनी पीड़ा को बयां किया, लेकिन उन्हें क्या पता था कि बदकिस्मती यहां भी उनका पीछा नहीं छोड़ेगी। ग्राम पंचायत प्रधान ने तो साफ-साफ कह दिया आप लोगों के लिए यहां काम नहीं है। यहां पर केवल हमारे गांव के लोगो को ही काम दिया जाएगा। 

बाहर शहरों से अपने गांव टीकमपुर वापस आए लगभग 20 प्रवासी मजदूरों के परिवार कोरोना जैसी महामारी से तो किसी तरह बच गए, लेकिन इन मजदूरों को काम न मिलने के कारण सबसे बड़ी समस्या है, इनके बच्चों की पेट की आग कैसे बुझेगी। समाजसेवी प्रशांत त्रिपाठी, ने बताया है कि ग्राम पंचायत टीकमपुर निवासी विनोद कुमार,विजय बहादुर, आशा देवी, पवन कुमार, सुभाष चंद्र, सुरजीत कुमार, राम कैलाश, राजेश कुमार, पप्पू सिंह रामदास, श्याम सुंदर, अनिल कुमार, राजकुमार सहित गांवो के दर्जनों लोग इन शहरों से अपने घर वापस आए जबकि इस संदर्भ में मजदूरों का कहना है हमारे पास मनरेगा जॉब कार्ड उपलब्ध है।

ग्राम प्रधान हम लोगों के साथ जान-बूझकर भेदभाव कर रहा है जबकि हम लोग काम न मिलने के कारण बहुत परेशान है माननीय जिलाधिकारी महोदय से इस आशय के साथ निवेदन करता हूं कि हम लोगो को भी मनरेगा में काम दिया जाए जिससे हम सभी लोग अपने परिवारों का भरण पोषण कर सकें।

यह खबर भी पढ़े: कोरोना संक्रमितों की रिकवरी रेट के मामले में देश में तीसरे स्थान पर राजस्थान, जानें जिलेवार आंकड़े

यह खबर भी पढ़े: ग्वालियर में लगे सिंधिया के गुमशुदा होने के पोस्टर, ...5100 रुपये इनाम की घोषणा

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended