संजीवनी टुडे

माओवादियों की सरकार गिराने की थी योजना-पुणे पुलिस

संजीवनी टुडे 13-03-2019 20:48:00


मुंबई। बांबे हाईकोर्ट में पुणे पुलिस की ओर से बुधवार को यह हलफनामा पेश किया गया कि शहरी नक्सल वाद और भीमा कोरेगाव हिंसा मामले में अरेस्ट किए गए शहरी माओवादियों की देश में दंगा भड़का कर सरकार गिराने की बड़ी योजना थी। माओवादी दो जातियों में तनाव पैदा कर समाज में व्याप्त भाईचारा और शांति को नष्ट करना चाहते थे। इसलिए इन सभी आरोपितों को जमानत न दिये जाने की पुणे पुलिस ने कोर्ट से की । 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

उल्लेखनीय है कि इस मामले में अरुण फरेरा, वर्णन गोंसाल्विस सहित सुधा भारद्वाज, पी वरवरा, गौतम नवलखा को पुणे पुलिस ने अरेस्ट किया है। उसमें से अरुण फरेरा और वर्णन गोंसाल्विस ने हाईकोर्ट में जमानत के लिए आवेदन किया है। जिसकी सुनवाई न्यायाधीश पी.एन. देशमुख के समक्ष हुई। इस अवसर पर पुणे के सहायक पुलिस आयुक्त शिवाजी पवार की ओर से हलफनामा पेश किया गया। जिसमें पुणे पुलिस ने दावा किया है कि यह लोग कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया इस प्रतिबंधित माओवादी संगठन के सक्रिय सदस्य हैं। समाज के दो वर्र्गों में बड़े पैमाने पर हिंसा फैला राज्य और केंद्र सरकार को सत्ता से बेदखल करने की उनकी योजना थी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

इन्होंने दलितों को अन्य जातियों के विरोध में भड़काने का काम किया। इससे संबंधित कागजात भी उनके पास से मिले हैं। एल्गार परिषद की ओर युवकों को भड़काने के बाद ही 1 जनवरी 2018 में राज्यभर में हिंसा हुई थी। हाईकोर्ट ने पुणे पुलिस के हलफनापमा को स्वीकार करते हुए 5अप्रैल तक इस मामले की सुनवाई को स्थगित कर दिया है।

More From state

Trending Now
Recommended