संजीवनी टुडे

कन्या सुमंगला योजना की शुरुआत, बेटी के जन्म पर खोलेगी खुशियों के द्वार

संजीवनी टुडे 04-07-2019 10:49:58

शासन द्वारा कन्या भ्रूण हत्या पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए कन्या सुमंगला योजना की शुरुआत की गई। बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के उद्देश्य के लिए यह योजना किसी वरदान से कम नहीं है।


गोंडा। शासन द्वारा कन्या भ्रूण हत्या पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए कन्या सुमंगला योजना की शुरुआत की गई। ‘बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ’ के उद्देश्य के लिए यह योजना किसी वरदान से कम नहीं है। जन्म से लेकर स्नातक तक बालिकाओं को छह चरणों में 15 हजार रुपये दिए जाएंगे। इसके लिए जिले में डेटा का संकलन करने का काम शुरू हो गया है। इसकी जिम्मेदारी प्रोबेसन विभाग को सौंपी गई है। प्रचार प्रसार न होने के कारण अभी तक प्रोबेसन विभाग को महज दो आवेदन प्राप्त हुए हैं। वहीं बेसिक शिक्षा विभाग और सरकारी अस्पतालों से भी छात्राओं और 31 मार्च के बाद जन्मी बच्चियों का डेटा प्रोबेशन विभाग मंगा रहा है।

बेटी के जन्म पर अब बोझ नहीं बल्कि घर में लक्ष्मी आने की खुशियां मनाई जाएगी। ऐसा इसलिए हो रहा है कि जन्म से लेकर स्नातक तक कि पढ़ाई के लिए सरकार उसे छह चरणों में 15 हजार की धनराशि देगी। इस योजना का लाभ 31 मार्च,2019 के बाद जन्मी बेटियों को मिलेगा। 

इसके क्रम में बालिका के जन्म होने पर दो हजार रुपये, एक वर्ष के उपरांत पूर्ण टीकाकरण होने पर एक हजार रुपये देने का प्रावधान है। कक्षा एक में बालिका के प्रवेश लेने पर पुनः उसे दो हजार रुपये तथा कक्षा छह में प्रवेश लेने पर दो हजार, कक्षा-9 में तीन हजार एवं ऐसी बालिकाएं जिन्होंने कक्षा 12वीं उत्तीर्ण करने के बाद स्नातक की डिग्री या दो वर्ष डिप्लोमा के कोर्स में प्रवेश लेने पर पांच  हजार रुपये की धनराशि भुगतान की जाएगी। 

ऐसे लाभार्थी जिनकी पारिवारिक आय तीन लाख तक हो तथा परिवार में सिर्फ दो ही बच्चियां जन्मी हों या दो ही बच्चे हों। यदि किसी परिवार ने अनाथ बालिका को गोद लिया हो तो परिवार की जैविक संतान दो ली गयी सन्तानो को सम्मिलित करते हुए अधिकतम दो बालिकाओ को इस योजना का लाभ दिया जाएगा।

बेसिक शिक्षा विभाग में अब तक हुए कक्षा एक और कक्षा छह में करीब 30 हजार बालिकाओं के नामंकन समपन्न हो चुके हैं। प्रोबेशन विभाग में इन बालिकाओं को योजना का लाभ दिलाने के शिक्षा विभाग से ऑफलाइन आवेदन मांगे हैं। वहीं 31 मार्च,2019 के बाद अस्पताल से भी ब्यौरा संकलित किया जा रहा है।

इस सम्बंध में जिला प्रोबेशन अधिकारी जगदीप सिंह ने बताया कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य भ्रूण हत्या को रोकना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, बालिका सशक्तिकरण करना है। अभी तक हमें प्रचार प्रसार के कमी के कारण सिर्फ दो ऑफलाइन आवेदन प्राप्त हुए हैं। बेसिक शिक्षा विभाग से भी बालिकाओं के डेटा को मंगाया गया है। जल्द ही प्रचार प्रसार कर योजना को विस्तार रूप दिया जाएगा कि कोई लाभार्थी छूटने न पाए।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

opl

More From state

Trending Now
Recommended