संजीवनी टुडे

वामदलों ने हिन्दू राष्ट्र, हिन्दी को राष्ट्रीय भाषा बनाने और सावरकार को भारत रत्न देने के फैसले का किया विरोध

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 22-10-2019 19:23:01

उन्होंने आरएसएस भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने, हिन्दी को राष्ट्रीय भाषा बनाने और सावरकार को भारत रत्न देने के फैसले की निंदा की। नेताओं ने इस मौके पर कहा कि इन फासीवादी करतूतों ने आज कश्मीरी लोगों को ओर भी दूर धकेल दिया है।


जालंधर। पंजाब में लगभग नौ वामदलों ने वीर सावरकार को भारत रत्न देने की मांग का विरोध किया है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के बंत सिंह बराड़, आरएमपीआई के मंगत राम पासला, एसपीआईएलएलडी के दर्शन सिंह खट्टकड़, सीपीआईएमएल (लिबरेशन) के गुरमीत बख़तपुरा, लोग संग्राम मंच की ओर से साथी तारा सिंह मोगा, इंकलाबी लोग मोर्चा की तरफ से साथी लाल सिंह गोलेवाला, इंकलाबी केंद्र पंजाब, इंकलाबी लोकतांत्रिक मोर्चा, मार्क्स साम्यवादी पार्टी यूनाइटेड के साथी मंगत राम लोंगोवाल ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35 ए को बहाल करवाने के लिए आज यहां देश भगत यादगार हाल में एक बैठक जिसमें कहा गया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और केन्द्र सरकार लोगों पर अत्याचार कर रही है। 

यह खबर भी पढ़ें: ​भाजपा मंत्री ने कहा- कांग्रेस और आम आदमी पार्टी खेल रही हैं ‘नूरा कुश्ती’

उन्होंने आरएसएस भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने, हिन्दी को राष्ट्रीय भाषा बनाने और सावरकार को भारत रत्न देने के फैसले की निंदा की। नेताओं ने इस मौके पर कहा कि इन फासीवादी करतूतों ने आज कश्मीरी लोगों को ओर भी दूर धकेल दिया है। कश्मीर एक खुली जेल बन चुका है और स्थिति सुधरने के सभी दावे थोथे और भ्रामक साबित हो रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की नीतियों के विरुद्ध विशाल एकजुटता करने के लिए नौ जत्थेबंदियों ने 22 नवंबर को दिन में 11 बजे देश भगत यादगार हाल जालंधर में एक सांझी प्रांतीय कन्वेन्शन करने का फ़ैसला किया है जिसमें संघर्ष को तीव्र और तेज़ करने के लिए फ़ैसले लिए जाएंगे।

मात्र 2500/- प्रति वर्गगज में फार्म  हाउस अजमेर रोड, जयपुर  में 9314188188

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended