संजीवनी टुडे

मधेपुरा में करोड़ों की अष्टधातु की मूर्ति चोरी

संजीवनी टुडे 15-02-2019 21:59:57


मधेपुरा। जिले के आलमनगर प्रखंड के खुरहान स्थित क्षेत्र के प्रसिद्ध शक्ति पीठ में ख्याति प्राप्त छिन्नमस्तिका माँ डाकिनी के मंदिर में चोरों ने करोड़ों रुपये की अष्ट धातु से बनी पिंडी चोरी कर ली है। गुरुवार की रात्रि माँ डाकिनी के ऊपर 1929 में अष्टधातु का बनाकर लगी पिंडी को चोरों ने ताला तोड़कर चोरी कर ली । वही एक पिंडी को ले जाने में असमर्थ होने पर उसे बाहर फेंक दिया ।

अहले सुबह जब लोग माँ डाकिनी के दर्शन करने गए तो ताला टूटा हुआ पाया एवं एक पिंडी को बगीचे में फेंका पाया । खबर क्षेत्र में आग की तरह फैल गई तो लोगों की भारी भीड़ मंदिर में उमड़ पडी़। माँ डाकिनी के भारी आस्था होने के कारण लोग खासे आक्रोशित थे । थाना अध्यक्ष आलमनगर राजेश कुमार मंदिर परिसर पहुंचकर पुजारी एवं ग्रामीणों के साथ जायजा लिया । इस बाबत मंदिर के पुजारी बोआ झा स्थानीय ग्रामीण शिव शंकर सिंह वीरेंद्र कुमार सिंह सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने बताया कि छिन्नमस्तिका मां डाकिनी की मंदिर की स्थापना सन 1348 में करने की बात कही जाती है। राजा भोर के द्वारा मंदिर की स्थापना की गई थी । तब माँ डाकिनी का मंदिर एक झोपड़ी में था जिसे बाद में भवन निर्माण कर भव्य मंदिर बनाया गया था। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

कहा जाता है कि मंदिर के आगे बने कुआं में डाक बाबा विराजमान हैं ।उस कुएं में सोने की नथ पहने हुए मगरमच्छ भी रहा करता था एवं माँ डाकिनी के वेरागिनी के दिन सोमवार एवं शुक्रवार को कुए का पानी दूध बन जाता था । आज भी इस कुएँ का जल वर्षों तक रख देने के बाद भी इसमें कीड़े नहीं होते हैं। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

ना ही जल खराब होता है एवं लोगों द्वारा आज भी घेघा सहित अन्य रोगों में इस कुएँ का जल का सेवन करने से रोग ठीक होने की बात कही जाती है। वहीँ कहा जाता है कि माँ डाकिनी के पास जो भी आस्था के साथ मन्नतें मांगते हैं उनकी मन्नतें अवश्य पूरी होती है । 
 

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended