संजीवनी टुडे

खेल को बढ़ावा देने के लिए सरकार हर गांव में बनवा रही है एक मैदान- मुख्यमंत्री

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 04-12-2019 22:54:35

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव एंव शहर के बच्चों के अन्दर स्वास्थ्य के प्रति जागरूक लाने के साथ ही खेल के नों में ओपेन जिम का भी निर्माण कराया जा रहा है जिससे लोग स्वस्थ्य रहे और देश के निर्माण में अपना योगदान दें।


गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार खेलों को बढ़ावे के लिए हर गांव में एक खेल का मैदान बना रही है। योगी आज यहां आयोजित महंत अवैद्यनाथ अखिल भारतीय प्राइज मनी पुरूष कबड्डी प्रतियोगिता की विजेता टीमों को पुरस्कृत कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने आर्मी रेड एंव उत्तर प्रदेश के बीच हुए फाइनल मुकाबले के विजेता आर्मी रेड दो लाख एंव कप, उप विजेता उत्तर प्रदेश को कप एंव एक लाख तथा तीसरे एंव चौथे स्थान पर आने वाले पूर्वोत्तर रेलवे एंव आई.टी.बी.पी की टीम को 50-50 हजार रूपये का पुरस्कार प्रदान किया।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​कप्तान मिताली राज का किरदार निभायेंगी बॉलीवुड की ये अभिनेत्री

उन्होंने सभी टीमों को बधाई देते हुए कहा कि सभी ने विगत चार दिनों से खेल के माध्यम से खेल प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि किसी खेल में कोई भी स्थान प्राप्त करना गौरव की बात है। टीम भावना से खेलना और विशुद्ध खेल भावना के साथ कार्यक्रम को आगे बढ़ा अभिनन्दनीय कार्य है। योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के हर नागरिक को स्वस्थ्य रखने के लिए फिट इंडिया मूवमेन्ट कार्यक्रम चलाया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण पृष्ठभूमि के खिलाड़ियों को वैश्विक मंच प्रदान करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा हर गांव में एक खेल का मैदान बनाया जा रहा है इसके लिए शासनादेश भी जारी कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव एंव शहर के बच्चों के अन्दर स्वास्थ्य के प्रति जागरूक लाने के साथ ही खेल के नों में ओपेन जिम का भी निर्माण कराया जा रहा है जिससे लोग स्वस्थ्य रहे और देश के निर्माण में अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के अन्दर का कोई खिलाड़ी वैश्विक मंच पर कोई सम्मानजनक स्थान प्राप्त करता है तो प्रदेश सरकार द्वारा उसे सहायता प्रदान की जायेगी।

उन्होंने कहा कि यदि ओलम्पिक में अगर एकल गेम में स्वर्ण पदक प्राप्त करता है तो छह करोड़, रजत पदक प्राप्त करता है तो चार करोड़, कांस्य पदक प्राप्त करता है तो दो करोड़ और प्रतिस्पर्धा में भाग लेता है तो 10 लाख रूपये की सहायता प्रदेश सरकार उपलब्ध करायेगी। इसी प्रकार टीम को स्वर्ण पदक पर तीन करोड़, रजत पदक पर 2 करोड़ और कांस्य पदक पर एक करोड़ और प्रतिभाग करने पर 10 लाख की सहायता प्रदेश सरकार करने जा रही है जो ओलम्पिक में कोई स्थान प्राप्त किये है।

योगी ने कहा कि कामन वेल्थ गेम्स व एशियन गेम में एकल में स्वर्ण पदक पर 50 लाख, रजत पदक पर 30 लाख, कांस्य के लिए 15 लाख और प्रतिभाग पर 5 लाख की सहायता उन सभी खिलाड़ियों को करने की व्यवस्था की गयी है और टीम को 30 लाख, 10 लाख और 5 लाख की सहायता की व्यवस्था प्रदेश सरकार अपने स्तर से कर रही है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त विभिन्न प्रतियोगिताओं के लिए भी प्रदेश सरकार द्वारा सहायता प्रदान की जायेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वृद्ध अशक्त खिलाड़ियों के लिए 4 हजार से लेकर 20 हजार तक की सहायता प्रदेश सरकार द्वारा किया जा रहा है। नवोदित खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए शिक्षा पर प्रति खिलाड़ी व्यय 600 बढ़ाकर 3000 रू0, किट के लिए 2500 से बढ़ाकर 5000, चिकित्सा व्यय के लिए 1000 से बढ़ाकर 2000, उपकरण राशि को 1500 से बढ़ाकर 6000 रू0 किया गया है। उन्होंने कहा कि भविष्य में यह खिलाड़ी केन्द्र एंव प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ लेकर स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा के साथ देश का नाम रोशन करेंगे।

इस अवसर पर खेल मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि महन्त अवैद्यनाथ ने शिक्षा, खेल एंव सामाजिक समरसता के लिए काफी कार्य किये है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended