संजीवनी टुडे

महागठबंधन ने तनवीर हसन को सिर्फ कन्हैया को हराने के लिए चुनाव मैदान में उतारा है : सत्यनारायण

संजीवनी टुडे 02-04-2019 20:51:53


पटना। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह ने राष्ट्रीय जनता दल के प्रवक्ता एवं सांसद मनोज झा के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मंगलवार को यहां कहा कि तनवीर हसन को बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाने के अपने इरादे को आखिर राजद ने स्पष्ट कर ही दिया। मनोज झा ने कहा है कि बेगूसराय लोकसभा चुनाव क्षेत्र से कन्हैया कुमार को सीपीआई का उम्मीदवार बनाना राजद को अच्छा नहीं लगा। इसलिए महागठबंधन ने तनवीर हसन को बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से अपना उम्मीदवार बनाया। उनके इस बयान से ही स्पष्ट है कि महागठबंधन ने तनवीर हसन को सिर्फ कन्हैया कुमार को हराने के लिए चुनाव मैदान में उतारा है, भाजपा को हराने के लिए नहीं। इससे यह भी स्पष्ट है कि राजद कन्हैया कुमार को देश के लिए खतरा मानता है पर उनकी नजर में आरएसएस तथा भाजपा देश के लिए कोई खतरा नहीं है।

मनोज झा की ओर से बेगूसराय को राजद का मजबूत आधार वाला जिला बताने पर उन्होंने कहा कि बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से राजद ने 2014 में अपना उम्मीदवार उतारा और हार गया इसके पूर्व 1998 में राजद का उम्मीदवार चुनाव लड़ा था जबकि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी 1962 से ही बेगूसराय या बलिया लोकसभा क्षेत्र से लगातार लोकसभा चुनाव लड़ती आ रही है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी 1967 में बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से जीती तथा 1980, 1989, 1991 और 1996 में भी बलिया लोकसभा क्षेत्र से जीत हासिल की। 1996 में तो बेगूसराय और बलिया दोनों लोकसभा क्षेत्र से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी जीती। उसके बाद भी जब बलिया क्षेत्र समाप्त हो गया तो बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से पार्टी लगातार 2014 तक चुनाव लड़ी। मनोज झा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के इस गौरवशाली इतिहास को नजर अन्दाज करके बेगूसराय को राजद के आधार वाला जिला मानते हैं।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

सांसद मनोज की ओर से बेगूसराय क्षेत्र में कन्हैया कुमार के खिलाफ तनवीर हसन को चुनाव मैदान में उतारने की राजद की मजबूरी के बयान पर राज्य सचिव ने कहा है कि बेगूसराय के अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के दबाव में बेगूसराय में राजद ने अपना उम्मीदवार दिया है। मनोज झा सच्चाई को छुपा रहे हैं। देश के कारपोरेट घराने, आरएसएस और मोदी सरकार एक साजिश के तहत कन्हैया कुमार को लोकसभा में पहुंचने नहीं देना चाहते हैं। राजद पर भी इन्हीं शक्तियों का दबाव पड़ा और भाजपा का सहयोगी बनकर राजद ने कन्हैया कुमार के खिलाफ अपना उम्मीदवार दे दिया। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

राज्य सचिव ने कहा कि यह सर्वविदित है कि कन्हैया कुमार सांप्रदायवादी-फासीवादी शक्तियों, नरेन्द्र मोदी सरकार की ‘‘बांटो और राज करो’’ की नीतियों तथा कारपोरेट पूंजी के खिलाफ अपनी समझौताविहीन लड़ाई के लिए देश भर में जाने जाते हैं। कन्हैया कुमार के चुनाव मैदान में आने से बेगूसराय जिला में धार्मिक और जातीय ध्रुवीकरण की दीवार ध्वस्त हो गयी है। सिर्फ बेगूसराय ही नहीं देश की सभी जातियों और सभी धर्मों के सेक्युलर, लोकतांत्रिक प्रगतिशील एवं फासिस्ट विरोधी शक्तियों की शुभकामनाएं और समर्थन कन्हैया कुमार को प्राप्त है। कन्हैया कुमार का एक मात्र लक्ष्य है सांप्रदायिक, फासीवादी, जनतंत्र विरोधी एवं कारपोरेट पक्षी शक्तियों को पराजित करना।

More From state

Trending Now
Recommended