संजीवनी टुडे

RJS में किसान के 22 वर्षीय बेटे ने लहराया परचम, क्षेत्रवासियों ने ऐसे की ख़ुशी जाहिर

संजीवनी टुडे 20-11-2019 17:20:44

कोटखावदा क्षेत्र के ग्राम पंचायत राडोली निवासी किसान के बेटे हनुमान मीणा ने रोज 12 घंटे पढ़ाई करके आरजेएस भर्ती प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता प्राप्त कर ली है। वह 2019 में सबसे कम उम्र (22 वर्ष) में सिविल न्यायाधीश में चयनित हुआ है, उनका बचपन का सपना था जो उसने पूराकर लिया है।


चाकसू। कोटखावदा क्षेत्र के ग्राम पंचायत राडोली निवासी किसान के बेटे हनुमान मीणा ने रोज 12 घंटे पढ़ाई करके आरजेएस भर्ती प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता प्राप्त कर ली है। वह 2019 में सबसे कम उम्र (22 वर्ष) में सिविल न्यायाधीश में चयनित हुआ है, उनका बचपन का सपना था जो उसने पूराकर लिया है। 

यह भी पढ़े: चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार के सुरक्षाकर्मी ने की आत्महत्या, जानिए वजह...

राजस्थान न्यायिक सेवा में कोटखावदा क्षेत्र का परचम लहराया। वही, नवनियुक्त सिविल न्यायाधीश हनुमान मीणा ने बताया कि आज आम जनता में कानून साक्षरता की बेहद कमी होती है। सिविल न्यायाधीश बनकर आमजन को कानूनी जानकारी देने का मेरा परम लक्ष्य था। आरजेए की तैयारी के लिए बीए, एलएलबी, एपीपी, एडीजी के परीक्षाओं के लिए अभ्यार्थियों को बड़े शहरों में जाकर भारी फीस भरके कोचिंग करनी पड़ती है। 

हनुमान मीणा को निज निवास पर पहुंचने पर स्थानीय सरपंच सपना मीणा व कांग्रेस एसटी प्रकोष्ठ जिला कांग्रेस एसटी प्रकोष्ठ जिला अध्यक्ष, कोटखावदा मीणा समाज अध्यक्ष रमेश मीणा सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने गाजे-बाजे के साथ रैली व जुलूस निकालकर माला व साफा पहनाकर मिठाई खिलाकर आसपास के क्षेत्रवासियों ने खुशियां जाहिर की गई। 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended