संजीवनी टुडे

विशेश्वर ओझा हत्याकांड के तीन आरोपियों की गिरफ्तारी का सुप्रीम कोर्ट का आदेश

संजीवनी टुडे 19-04-2019 11:02:13


आरा। भाजपा के तत्कालीन प्रदेश उपाध्यक्ष स्व.विशेश्वर ओझा की हत्या में आरोपित तीन अपराधियोंं की जमानत रद्द हो सकती है। आरोपित अपराधियोंं को जमानत नहींं देने के निर्देश के बावजूद निचली अदालत से जमानत मिलने के बाद स्व. विशेश्वर ओझा के भाई भुवर ओझा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

भाजपा नेता भुवर ओझा ने सुप्रीम कोर्ट से न्याय की गुहार लगाई है और उनके आवेदन पर सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को जमानत पर जेल से छूटे आरोपितों को केस की सुनवाई होने तक गिरफ्तार कर जेल में बंद करने का निर्देश दिया है।

इस मामले में बिहार सरकार ने माना है की उससे चूक हुई है जिससे आरोपितों को निचली अदालत से जमानत मिली है। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में आगामी 4 मई को पुनः सुनवाई होगी।

उधर भाजपा के तत्कालीन प्रदेश उपाध्यक्ष स्व.विशेश्वर ओझा के भाई भुवर ओझा ने कहा कि हत्यारोंं को किसी भी कीमत पर नहींं छोडूंगा और उन्हें सजा दिलवाकर रहूंगा।

उन्होंने आरोप लगाया है कि उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद आरोपितों से पुलिस ने विधिवत पूछताछ नहींं की जिससे पुलिस अनुसंधान में बहुत सारी बातें उजागर नही हो पाई हैंं।

?????

उन्होंने कहा कि पुलिस ने वैज्ञानिक तरीके से भी अनुसंधान नहींं किया है और न ही इस हत्याकांड के गवाह कमल किशोर मिश्र के हत्यारे किशुन मिश्र को पकड़ा गया है।

इस मामले में पुलिस का रवैया नकारात्मक रहा है जिससे न्याय मिलने में विलम्ब हो रहा है। दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट ने इसी मामले में दो अन्य लोगोंं बुवा सिंह और पप्पू सिंह को भी नोटिस दिया है।

भाजपा नेता भुवर ओझा ने कहा है कि उनके भाई की हत्या राजनैतिक विरोधियों की साजिश का नतीजा है और साजिश कर्ताओं से लेकर हत्या में शामिल लोगोंं तक के चेहरे बेनकाब किए जाएंंगे।

बता दें कि शाहपुर विधानसभा क्षेत्र में ही सामाजिक गतिविधियों के दौरान भाजपा के कद्दावर नेता और तत्कालीन प्रदेश उपाध्यक्ष विशेश्वर ओझा की दिनदहाड़े हथियारबन्द अपराधियोंं ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

विशेश्वर ओझा की हत्या से तब न सिर्फ भोजपुर के दियारा इलाके बल्कि पूरे बिहार में सनसनी फैल गई थी। विशेश्वर ओझा अपने इलाके में काफी लोकप्रिय थे। यही वजह थी कि उनकी हत्या के बाद हजारोंं लोगों की भीड़ उनके गांव पहुंच गई थी।

More From state

Trending Now