संजीवनी टुडे

शक्ति पीठ कामाख्या धाम में ऐतिहासिक अंबुवासी के लिए विशेष तैयारी

संजीवनी टुडे 17-06-2019 21:58:14

राजधानी के नीलाचल पहाड़ पर स्थित विश्व विख्यात शक्तिपीठ कामाख्या धाम में आगामी 22 जून से शुरू होने जा रहे ऐतिहासिक अंबुबासी मेला के मद्देनजर विशेष तैयारी की गई है


गुवाहाटी। राजधानी के नीलाचल पहाड़ पर स्थित विश्व विख्यात शक्तिपीठ कामाख्या धाम में आगामी 22 जून से शुरू होने जा रहे ऐतिहासिक अंबुबासी मेला के मद्देनजर विशेष तैयारी की गई है। अंबुबासी महायोग की प्रवृत्ति 22 जून की रात 01 बजकर 40 मिनट 18 सेकंड से आरंभ होने के साथ ही मंदिर का कपाट बंद कर दिया जाएगा। जबकि, 26 तारीख की दोपहर 02 बजकर 04 मिनट 22 सेकंड पर निवृत्ति होगी। निवृत्ति के बाद मां कामाख्या मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे। इस अवसर पर पूरे कामाख्या धाम को सुंदर तरीके सजाया जा रहा है।

अंबुबासी मेला को लेकर कामाख्या मंदिर संचालन समिति ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में मेला से संबंधित विभिन्न तैयारियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि अंबुबासी मेले देशी-विदेशी लाखों की संख्या में श्रद्धालु प्रति वर्ष कामाख्या धाम में मां की पूजा तथा दर्शन के लिए आते हैं। श्रद्धालुओं के लिए मंदिर का द्वार 23, 24 और 25 जून को बंद रखा जाएगा। और 26 जून को निवृत्ति के बाद साफ-सफाई कर पूजा-अर्चना करने के बाद सुबह 6 बजे मंदिर का कपाट खोल दिया जाएगा, जो शाम 04:30 बजे तक खुला रहेगा।

 

इस बार अंबुबासी मेला की सुरक्षा के पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। सुरक्षा के लिए मंदिर के 120 स्थायी सुरक्षा कर्मियों के साथ 400 स्काउट एंड गाइड और 400 स्वयंसेवक, 140 अस्थायी सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जाएगा। इसके अलावा भी पूरे मंदिर परिसर में 300 सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जाएगी। पूरे कामाख्या मंदिर के आसपास के इलाके में कुल 580 हाई क्वालिटी के सीसीटीवी कैमरा लगाये जाएंगे।

इस बार पुलिस प्रशासन ने भी सुरक्षा के खास इंतजाम किये हैं। मंदिर की सुरक्षा के लिए डेक्स स्केनर व मेटल डिटेक्टर को सोमवार से ही लगाने का कार्य आरंभ किया गया है। मेटल डिटेक्टर के साथ ही सिविल ड्रेस में पुलिस भी भीड़ के बीच 24 घंटे मौजूद रहेगी।

कामाख्या देवालय की ओर से साफ-सफाई पर खास ध्यान दिया जाएगा। देवालय के 120 सफाई कर्मियों के अलावा 200 सफाई कर्मियों को भी मेले के दौरान नियुक्ति किया जाएगा, जो लगातार सफाई पर ध्यान देंगे। मेले के दौरान श्रद्धालुयों की सुविधा के लिए बंशी बागान में स्थित आस्थायी शिविर में चिकित्सा, पीने के पानी, शौचालय की ख़ास व्यवस्था किया गया है। मेले के मद्देनजर पूरे कामाख्या मंदिर को फूल तथा आकर्षक लाइटों से सजाया जाएगा। निचले कामाख्या से कामाख्या तक जाने वाले मार्ग तथा वाहन मार्ग के बीच में श्रद्धालुओं के लिए विश्राम करने की भी व्यवस्था की जाएगी। जहां पीने के पानी के साथ लाईट तथा पर्याप्त सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जाएगा।

इस बार अंबुबासी मेले में पूरे कामाख्या धाम को तंबाकू मुक्त इलाका बनाने के लिए सभी प्रकार के तंबाकू बिक्री तथा खरीदने पर पाबंदी लगायी जाएगी। स्वच्छता के मद्देनजर प्लास्टिक तथा दूसरे प्रकार के कचड़े को इधर-उधर फेंकने पर पूरी तरह से पाबंदी होगी, ताकि मेला परिसर में स्वच्छता बनी रहे। इसलिए मंदिर तक जाने वाले मार्ग पर रात को 12 बजे के बाद सुबह 05 बजे तक यातायात को बंद रखा जाएगा।   श्रद्धालुओं की खातिर निर्दिष्ट स्थान पर जूता, चप्पल रखने की भी प्रबंधन किए गए हैं। अंबुबासी मेला के समय सभी श्रद्धालुओं के लिए 24 घंटा पीने के पानी, बिजली, चिकित्सा, पर्याप्त शौचालय का इंतजाम किया गया है। अंबुबासी मेले के दौरान सशस्त्र बलों को जारी होने वाले 50 रुपये के विशेष टिकट  को 21 से 30 जून तक बंद रखा जाएगा।  वहीं 501 रुपये मूल्य के टिकट को 26 से 27 जून तक बंद रखा जाएगा।

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166 

 

More From state

Trending Now
Recommended