संजीवनी टुडे

एसपी-कलेक्टर ने किया जिला जेल का निरीक्षण

संजीवनी टुडे 22-03-2019 19:37:32


मंदसौर। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने शुक्रवार को जिला जेल का निरीक्षण किया। एसपी विवेक अग्रवाल और कलेक्टर धनराजू एस के साथ एसडीएम, टीआई सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने जेल की बैरक की तलाशी ली। अन्य व्यवस्थाओं का भी निरीक्षण किया। इस दौरान जेल में लगे कैमरे बंद मिले। इसके अलावा अन्य छोटी मोटी कमियों को लेकर जेल के अधिकारियों को सुधार के निर्देश दिए गए। इस दौरान बाहर आने पर कैदियों के परिजनों ने अधिकारियों से जेल प्रशासन की शिकायत भी की। 

जेल में चल रही अनियमितताओं को लेकर कलेक्टर धनराजू एस व पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल ने निरीक्षण किया। डेढ़ घंटे चले इस निरीक्षण के दौरान उन्होने हर कैदी से बात की और हर बैरक को देखा। वहीं जब कलेक्टर बाहर आये तो कैदियों के परिजनों ने उनसे शिकायत की कि पहले एक हजार रुपये लेते थे लेकिन अब 200-300 रुपये लेते हैं। इस पर कलेक्टर व एसपी ने जांच करने की बात कहीं है। वहीं उन्होंने कहा कि शिकायत के आधार पर नहीं आचार संहिता के चलते निरीक्षण करने आए हैं। जेल अधीक्षक सारे आरोपों को निराधार बताते रहें। इस बीच जेल में मिलने आए परिजनों को बाहर ही रोक लिया गया।

 मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

उनके हाथ में सामान देख कर लग रहा था कि जेल में बाहर का सामान पहुंचता है। 
तीन दिन पूर्व जैल कैदियों द्वारा भूख हड़ताल की गई थी। वहीं एक कैदी ने न्यायालय जाते हुए बताया था कि जेल में काफी अनियमितताएं चल रही है। हर बात के पैसे मांगे जा रहे है। इसको लेकर कलेक्टर और एसपी ने आला अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि निरीक्षण के दौरान कुछ भी ऐसा नहीं पाया गया। वहीं सीसीटीवी कैमरे बंद मिले। इसके लिए उच्च अधिकारियों से बात की जाएगी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

परिजनों ने कहा- हर बात के पैसे मांगते हैं 
निरीक्षण के दौरान बड़ी संख्या में कैदियों से परिजन मिलने आए थे। इस दौरान परिजनों ने कलेक्टर व एसपी को शिकायत करते हुए कहा कि हर बात के पैसे मांगे जाते हैं। कैदियों से मिलना हो या अन्य कोई काम। जेल प्रशासन द्वारा रुपयों की मांग की जाती थी। पहले हजार रुपये लिए जाते थे अब 200-300 ले रहे हैं। कैदियों से मिलने के 100 रुपये लेते हैं। यह पहला मौका नहीं है जब जिला जेल में जेल में हो रही अनियमितताओं के आरोप लगे। इससे पूर्व जेल डीजी वीके सिंह के निर्देश पर जेल अधीक्षक वीके लवाना ने जेल उप अधीक्षक सुनील शर्मा को निलंबित कर दिया था। इसके बाद यहां उप जेल अधीक्षक नारायण राणा को पदस्थ किया। उन पर भी अब आरोप लगने लगे हैं। इसमें कैदियों को घर के भोजन की सुविधा उपलब्ध कराने से लेकर, नशा करने व मुलाकात के लिए भी रुपये देने के आरोप हैं। इसी व्यवस्था के चलते सोमवार से कैदी भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। एक कैदी के परिजन ने चुनाव आयोग को शिकायत भी की है।

More From state

Trending Now
Recommended