संजीवनी टुडे

साहब, बेटा मिला नहीं और 30 लाख रुपया ले गए अपहरणकर्ता, देखती रही पुलिस

संजीवनी टुडे 14-07-2020 22:17:40

बर्रा के रहने वाले एक पिता ने एसएसपी से मिल पुलिस विभाग पर ऐसा आरोप लगाया कि पुलिस विभाग पर खलबली मच गयी। पीड़ित पिता ने एसएसपी से कहा


कानपुर। बर्रा के रहने वाले एक पिता ने एसएसपी से मिल पुलिस विभाग पर ऐसा आरोप लगाया कि पुलिस विभाग पर खलबली मच गयी। पीड़ित पिता ने एसएसपी से कहा कि 22 जून को अपरहणकर्ताओं ने बेटे का अपहरण कर लिया और पुलिस ने 30 लाख रुपया दिलवा दिया पर बेटे को नहीं ला पायी। यह रुपया पुलिस के सामने ही दिया गया है और अपहरणकर्ता भाग निकलने में सफल रहे। पिता के इस तरह के आरोपों पर बर्रा पुलिस सवालों के घेरे में आ गई है। हालांकि पुलिस के आला अधिकारियों ने सर्विलांस टीम की मदद से जांच कराए जाने की बात कही है।

बर्रा-5 निवासी चमन सिंह का बेटा संदीप लैब टेक्नीशियन है और वह 22 जून से लापता है। परिजनों के मुताबिक, बेटे का अपहरण हुआ है। पीड़ित पिता ने बताया कि बेटी का बर्रा निवासी राहुल यादव से रिश्ता तय हुआ था। इस बीच उन्हें जानकारी हुई कि युवक अच्छी प्रवृत्ति का नहीं है तो उन्होंने रिश्ता तोड़ दिया। इस पर राहुल फोन पर परिवार को धमकी देने लगा था। 22 जून को उनका बेटा संदीप पैथोलॉजी गया था, जिसके बाद वह घर वापस नहीं लौटा। इस पर थाना पुलिस से शिकायत करके राहुल पर बेटे के अपहरण का संदेह जताकर मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद आरोपित फोन पर बेटे को छोड़ने के लिए 30 लाख रुपये की फिरौती की मांग करने लगे। बताया कि इतना रुपया न होने के बाद भी बेटे को छुडाने के लिए मकान बेच डाला। 

आरोप है कि पुलिस के कहने पर मंगलवार सुबह फिरौती के 30 लाख रुपये पुलिस के दिए बैग में रखकर परिजन गुजैनी हाईवे के पास पहुंचे, जहां अपहरणकर्ताओं ने उन्हें झांसी रेलवे लाइन के पास बैग फेंकने को कहा। पुलिस लगातार मामले पर नजर बनाए हुए थी। पुलिस के इशारे के बाद जब बैग फेंका तो कुछ ही देर में अपहरणकर्ता बैग लेकर भाग निकले। फिरौती की रकम देने के बावजूद परिजनों को उनका बेटा नहीं मिला। 

मंगलवार को एसएसपी ऑफिस पहुंचे पीड़ित पिता ने आरोप लगाते हुए बताया कि पुलिस के कहने पर उन्होंने घर बेचकर 30 लाख रुपये फिरौती अपहरर्ताओं को दे दिए। इसके बाद भी पुलिस अब तक न तो आरोपी को पकड़ पाई है और ना ही उनका बेटा लौटा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस से बैग में ट्रैकिंग डिवाइस लगाने के लिए कहा था लेकिन उनकी एक न सुनी। 

इस बारे में एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता का कहना है कि फिरौती की रकम अपहरणकर्ताओं को पुलिस के सामने देने की बात सरासर गलत है। ऐसा संभव नहीं है कि पुलिस के सामने अपहरणकर्ता निकल जाएं। परिजन मानसिक रूप से परेशान हैं, उन्हें विश्वास में लिया गया है। प्रयास किया जा रहा है कि युवक को जल्द से जल्द बरामद किया जाए।

यह खबर भी पढ़े: Crime: नशे में धुत पिता ने अपने ही बेटे के गले में चाकू मारकर की निर्मम हत्या, इलाके में फैली सनसनी

यह खबर भी पढ़े: CM केजरीवाल ने कहा- मुझे खुशी है कि PM मोदी ने भी की दिल्ली के माॅडल की तारीफ

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended