संजीवनी टुडे

जिले की सीमाएं सील, कोई अंदर आएगा और न ही कोई बाहर जाएगा

संजीवनी टुडे 09-04-2020 21:32:29

कलेक्टर ने एक आदेश जारी करते हुए पूरे जिले की सीमा को सील कर दिया है। ग्रामीण इलाकों में भी जिले की जहां सीमाएं मिलती हे, वहां बांस-बल्लियों से उसे बंद करने के आदेश दिए गए हैं।


उज्जैन। कलेक्टर ने एक आदेश जारी करते हुए पूरे जिले की सीमा को सील कर दिया है। ग्रामीण इलाकों में भी जिले की जहां सीमाएं मिलती हे, वहां बांस-बल्लियों से उसे बंद करने के आदेश दिए गए हैं। ऐसा बाहरी लोगों के शहर में प्रवेश को रोकने के लिए किया गया है वहीं जिले से कोई व्यक्ति बाहर न जा सके, इसलिए भी किया गया है। ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सके।

बीती रात इस आदेश के जारी होते ही गुरूवार को पूरे जिले की सीमाएं सील कर दी गई। अधिकारियों ने अपने-अपने क्षेत्रों, तहसीलों में जहां गश्त बढ़ा दी वहीं हर आने-जानेवाले से पूछताछ शुरू कर दी गई। सीमाएं सील करने के बाद जिले के भीतर आवश्यक सेवाओं को दुरस्त रखा गया है। आम नागरिकों को किसी समस्या का सामना न करना पड़े,इसलिए दूध-सब्जी-फल और किराना की उपलब्धता लोगों के घरों तक हाथ ठेलों के माध्यम से करवाई जा रही है। 

22 पुलिसकर्मियों की जांच रिपोर्ट आई नेगेटिव
नीलगंगा थाना प्रभारी के कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आने के बाद विभाग के उन 86 लोगों के सेम्पल लिए गए थे, जो कहीं न कहीं थाना प्रभारी के संपर्क में आए और अन्य संक्रमित क्षैत्रों में भी ड्यूटी दे रहे थे। सीएमएचओ के अनुसार इनमें से 22 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। शेष पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट भी शीघ्र आ जाएगी।

आईजी-डीआईजी-कलेक्टर-एसपी निकले भ्रमण पर
गुरूवार सुबह रैंज के आईजी राकेश गुप्ता, डीआईजी मनीष कपूरिया, कलेक्टर शशांक मिश्र और एसपी सचिन अतुलकर ने शहर का भ्रमण किया। अमले के साथ उन्होने बेगमबाग,कोट मोहल्ला,जांसापुरा, रामप्रसाद भार्गव मार्ग आदि संक्रमित क्षेत्रों में कानून व्यवस्था देखी और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को नियमों का पालन सख्ती से कराने के निर्देश दिए।

शहर के इन 16 अस्पताल में पहुंचे इमरजेंसी में
तालाबंदी के चलते आम आदमी की परेशानियों के मद्देनजर शहर के 16 अस्पतालों को ग्रीन हॉस्पिटल घोषित किया गया है। इन अस्पतालों में नॉन फ्लू ओपीडी एक्रॉनिक पेशेंट का इलाज तथा पैथोलॉजी लैब संचालित होगी। विशेष चिकित्सक सेवाएं देगे। आपातकालीन सेवाएं 24 घंटे संचालित होंगी। कलेक्टर शशांक मिश्र ने बताया कि यदि विशेष चिकित्सकों द्वारा अपनी सेवां नहीं दी जाती है तो संबंधित नर्सिंग होम तुरंत अवगत कराए। इनके नाम- चैरिटेबल हॉस्पिटल,संजीवनी हॉस्पिटल,पुष्पा मिशन हॉस्पिटल,तेजनकर हॉस्पिटल,सहर्ष हॉस्पिटल ,निर्मला हॉस्पिटल,देशमुख हॉस्पिटल,जे के नर्सिंग होमए ,सीएचएल हॉस्पिटल,जी डी बिरला हॉस्पिटल,बीमा चिकित्सालय ,गुरु नानक हॉस्पिटल,ऑर्थो हॉस्पिटल,पाटीदार हॉस्पिटल,एस एस  गुप्ता हॉस्पिटल तथा इंडस हॉस्पिटल।

पुलिसकर्मियों के जज्बे को सलाम
पुलिस लाइन,नागझिरी में भविष्य की जरूरत को देखते हुए फेस मास्क तैयार किए जा रहे है। एएसपी अमरेंद्रसिंह के अनुसार आनेवाले समय में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर तैनात सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ-साथ पुलिस परिवारो को भी मास्क की आवश्यकता लगती रहेगी। इसी को देखते हुए कपड़े के मास्क तैयार करवाए जा रहे हैं, ताकि उन्हे धाने के बाद पुन: उपयोग में लाया जा सके।

यह खबर भी पढ़े: इंसानियत का फर्ज निभाना गर्भवती महिला को महंगा पड़ा, पढ़िए पूरा मामला

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended