संजीवनी टुडे

इंसान के दिलों से बुराइयों को निकाल अच्छाईयों को सामने लाता है रोजा- शाह फकरे हसन

संजीवनी टुडे 25-05-2020 16:24:05

जिले भर में ईद की नमाज सोमवार को खुशियों के साथ अदा की गई। हालांकि लॉक डाउन (तालाबंदी) की वजह से मस्जिदों और ईदगाह में बड़ी जमात के साथ नमाज अदा नहीं हो सकी।


भागलपुर। जिले भर में ईद की नमाज सोमवार को खुशियों के साथ अदा की गई। हालांकि लॉक डाउन (तालाबंदी) की वजह से मस्जिदों और ईदगाह में बड़ी जमात के साथ नमाज अदा नहीं हो सकी। खनकाह-ए-पीर दमड़िया के नाईब सज्जादानशीं शाह फकरे आलम हसन ने इस मुबारक मौके पर कहा कि तालाबंदी की वजह से मस्जिदों और ईदगाह में बड़ी जमात के साथ नमाज अदा नहीं करने का अफसोस हमें और अहले इमान के दिलों में है। लेकिन देश हित में तमाम मुसलमानों ने तालाबंदी का और सोशल डिस्टेंशिंग (दो गज की दूरी) का लोगों ने पालन किया। रमजान के पवित्र महीने में पूरे 30 रोजे रखकर इमान वालों ने परहेज गार बनकर जिंदगी गुजारने का अभ्यास मुकम्मल कर लिया है। 

रोजा रखने से इंसान को सब्र और धीरज रखने का मलिका मिल जाता है। साथ ही असहाय और गरीब लोगों की भूख और प्यास का वह पूरा अहसास भी कर लेता है। जिसके द्वारा रोजा रखने वाले को दूसरों की मदद करने की प्रेरणा मिल जाती है।

रोजा इंसान के दिलों से बुराइयों को निकालकर अच्छाइयां लाने का काम करता है और जब इंसान का हृदय स्वच्छ हो जाता है तो फिर वह इंसान नेक बन जाता है और सब की भलाई के लिए काम करता है। 

नमाज के बाद लोगों ने एक दूसरे को मुबारकबाद दी और देश की सलामती, उन्नति और कोरोनावायरस जैसी महामारी से निजात मिलने की दुआएं की। शाह मंजिल शाह मार्केट परिसर में खान का पीर दमड़िया में ईद की नमाज अदा की गई।

यह खबर भी पढ़े: अविनाश के वियर ए मास्क अभियान के सपोर्ट में आए बिग बी, कोलाज शेयर कर लोगों से की मास्क पहनने की अपील

यह खबर भी पढ़े: सोहा अली खान ने खास अंदाज में दी अभिनेता पति कुणाल खेमू को 37वें जन्मदिन की बधाई

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From state

Trending Now
Recommended