संजीवनी टुडे

जनता की भागीदारी से बनेगा "पानी का अधिकार" कानून : मंत्री पांसे

संजीवनी टुडे 24-06-2019 18:52:01

मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य होगा, जो पानी के अधिकार की शुरूआत करने जा रहा है।


भोपाल। मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य होगा, जो पानी के अधिकार की शुरूआत करने जा रहा है। देश-प्रदेश में पहले अनेकानेक महत्वपूर्ण अधिकार अस्तित्व में आये, परंतु जो अधिकार सबसे पहले बनना चाहिये था, वह हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की अवधारणा के आधार पर अब आकार ले रहा है। 'राइट टू वॉटर' इसकी पहली कड़ी है। उक्‍त विचार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री सुखदेव पांसे ने 'राइट टू वॉटर'' विषयक कार्यशाला को संबोधित करते हुये व्‍यक्‍त किये। 

राजधानी भोपाल के मिन्टो हॉल में सोमवार को लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा 'राइट टू वाटर'' विषय पर कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में देश-प्रदेश के तकरीबन 30 विषय विशेषज्ञों ने भागीदारी की। साथ ही उन्‍होंने पानी का अधिकार कानून बनाने के लिये अपने सुझावों दिये। 

कार्यशाला को संबोधित करते हुये मंत्री पांसे ने बताया कि विषय-विशेषज्ञ, शिक्षाविद् और कानून विशेषज्ञों से प्राप्‍त सुझावों पर मंथन के बाद इसमें जनता की भागीदारी सुनिश्चित कर कानून का रूप दिया जा सकेगा। उन्‍होंने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में यह कार्यशाला अत्यंत प्रासांगिक है। इसमें भूमिगत जल भंडारों के संवर्द्धन की नई तकनीकों पर चर्चा होगी। उन्होंने कहा कि 'राइट टू वॉटर'' मात्र सरकार का कानून नहीं होगा, वरन् इसमें आम जनता की भागीदारी भी होगी। जनता की भागीदारी से कानून बनाया जायेगा। उन्होंने पानी की बचत करने एवं भू-जल भंडार बढ़ाने के नये तरीकों पर विचार करने का आव्हान भी किया।

प्रख्यात जल शास्त्री राजेन्द्र सिंह ने पानी के अधिकार को कानूनी दर्जा दिलाने की पहल को प्रदेश सरकार का क्रांतिकारी कदम बताया। उन्होंने कहा कि जल साक्षरता अभियान चलाकर आम लोगों को जाग्रत करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हम धरती से अनवरत पानी निकालते रहते हैं, परंतु उसमें पानी डालने की हमने न तो चिंता की और न ही प्रयास किये। इसके चलते देशभर में पीने के पानी की समस्या विकराल रूप में सामने आ रही है। उन्‍होंने कहा कि हमें इस स्थिति को बहुत ही गंभीरता लेना होगा और इस पर विचार कर जल संरक्षण के सघन प्रयास करने होंगे।

अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास गौरी सिंह ने बताया कि पंचायतों में रोजगार गारंटी योजना में सभी ग्राम पंचायतों में एक तालाब का निर्माण करवा कर जल संरक्षित किया जायेगा। इस दौरान प्रमुख सचिव संजय कुमार शुक्ला ने कार्यशाला के उद्देश्य की जानकारी दी। वहीं, मंत्री सुखदेव पांसे ने राजेन्द्र सिंह की पुस्तक 'गंगा की अविरल यात्रा' और अमृतलाल बेगड़ की पुस्तक ' तीरे-तीरे-नर्मदा' का विमोचन भी किया। कार्यशाला में प्रमुख सचिव नगरीय विकास संजय दुबे, प्रमुख सचिव अशोक वर्णवाल सहित विषय-विशेषज्ञ, कानूनविद् और विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। 

मात्र 260000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

Tags
Share

More From state

Trending Now
Recommended