संजीवनी टुडे

रिक्शा चालक के बेटे गोविन्द जायसवाल ने दिए सफलता के मंत्र

संजीवनी टुडे 19-09-2018 17:30:06


जयपुर। देश के सर्वश्रेष्ठ शिक्षण संस्थानों की फहरिस्त में शामिल पतंजलि आईएएस की ओर से बुद्ववार को सिविल सेवा अभ्यर्थियों के लिए मोटिवेशनल सेमीनार आयोजित हुआ। जयपुर के बिड़ला आॅडिटोरियम में आयोजित भव्य सेमीनार में रिक्शा चालक के बेटे आई.ए.एस. गोविन्द जायसवाल बतौर मुख्य वक्ता मौजूद रहे। 

इस मौके पर आई.ए.एस. गोविन्द जायसवाल ने सेमीनार में मौजूद आईएएस एवं आरएएस की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को सिविल सेवा जैसी महत्वपूर्ण परीक्षा के सन्दर्भ में मार्गदर्शन दिया। इस अवसर पर गोविन्द जायसवाल ने कहा कि कठिनाईयां तो जीवन के अभिन्न अंग है परन्तु यदि जीवटता और संकल्प पूर्वक उनका सामना किया जाए तो फिर हम उन कठिनाईयों को दूर कर जीवन में नई ऊँचाईयों को प्राप्त कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि गोविन्द जायसवाल के पिता बनारस की सड़कों पर रिक्शा चलाने का काम करते थे। 

वे ऐसे मोहल्ले में रहते थे जहाँ काफी शोर गुल रहता था एवं रहने की मूलभूत सुविधाओं का भी अभाव था। बचपन में हुई एक घटना ने उनकी सोच एवं लक्ष्य को बदल दिया। दृढ़ संकल्प एवं पतंजलि संस्थान के धर्मेन्द्र सर के सटीक एवं प्रामाणिक मार्गदर्शन में अपने पहले ही प्रयास में वे आईएएस के लिये चयनित हुए। इस मौके पर आईएएस की सिविल सेवा परीक्षा की प्रिलिमनरी और मैन्स की तैयारी करने के साथ ही तीसरे और सबसे आखिरी चरण साक्षात्कार में उत्तीर्ण होने के ज़रूरी विनिंग टिप्स भी दिए। उन्होंने अपने विचार रखने के बाद हुए सवाल-जवाब सेशन में अभ्यर्थियों की विभिन्न जिज्ञासाओं को भी शांत किया।

इस अवसर पर पतंजलि आईएएस के डायरेक्टर श्री धर्मेन्द्र कुमार ने भी अभ्यर्थियों को सिविल सेवा सहित अन्य प्रशासनिक सेवा परीक्षाओं को क्रेक करने के महत्वपूर्ण टिप्स दिए। धर्मेन्द्र कुमार ने बताया कि यदि मन, वचन और कर्म से अपने लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित किया जाए, रणनीति बनाकर कार्य किया जाए, प्रासंगिक सामग्री का अध्ययन किया जाए तथा प्रामाणिक मार्गदर्शन का सहारा लिया जाए तो तैयारी के शुरूआती दौर में ही सफलता पाई जा सकती है। उन्होंने छात्रों को यह बताया कि सफल होने के लिये इस बात की जानकारी का होना आवश्यक है कि क्या पढ़ना है और क्या नहीं पढ़ना है? साथ ही पिछले वर्षों के प्रष्न-पत्रों एवं संभावित प्रष्नों के लेखन का अभ्यास करना चाहिए।

गौरतलब है कि पूर्व में पतंजलि  संस्थान से अनेको विधार्थीयो का आईएएस , आरएएस और आईपीएस सीविल परिक्षाओ में चयन हुआ है। जिसमें राहुल प्रकाश आईपीएस, कुमार पाल गौतम आईएएस, जितेन्द्र कुमार सोनी आईएएस, अनुपमा जोरवाल आईएएस, भगवती प्रसाद कलाल आईएएस, अविचल चतुर्वेदी आईएएस, मुक्तानंद अग्रवाल आईएएस, अथर आमिर आईएएस आदि  शामिल है।  

sanjeevnitoday

सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण कर देश की सेवा करने का लक्ष्य रखने वाले अभ्यर्थियों के लिए नियमित पढाई के साथ ही सबसे महत्वपूर्ण है सही मार्गदर्शन। बिना सही मार्गदर्शन के इस गरिमामय और सबसे कठिन परीक्षा माने जाने वाली परीक्षा को उत्तीर्ण करने की संभावना कम ही रहती है। इसी को मद्देनज़र रखते हुए पतंजलि संस्थान की ओर से एक दिवसीय सेमिनार का जयपुर में आयोजन किया गया।

पतंजलि संस्थान के बारे में

पतंजलि कोचिंग संस्थान की राजस्थान में शुरुआत राजस्थान प्रशासनिक सेवा, आरएएस की परीक्षा की एस्पर्ट गाइडेंस अभ्यर्थियों को दिए जाने के उद्देश्य से हुई थी। 

sanjeevnitoday

आईएएस और आरएएस परिक्षा में एक के बाद एक शानदार नतीजे देकर पतंजलि ने अभ्यर्थियों का भरोसा जीत लिया। संस्थान की सफलता का अंदाज़ा इस बात से सहज ही लगाया जा सकता है कि राजस्थान की राजधानी जयपुर से संचालित होकर संस्थान ने अब तक के 10 साल के सफर में आईएएस और आरएएस परीक्षा में सैंकड़ों की संख्या में सफल अभ्यर्थी दिए हैं। पिछले साल ही घोषित परिणाम में पतंजलि संस्थान के सैकडो अभ्यर्थियों ने सफलता के झंडे गाड़े हैं। पतंजलि संस्थान का उद्देश्य एक्सपर्ट गाइडेंस से प्रदेश के अभ्यर्थियों को संघ लोक सेवा की सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करवाना है।

sanjeevnitoday

पतंजलि के सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी करवाने से अब यहां के अभ्यर्थियों को राज्य के बाहर जाने की आवश्यकता नही है। गौरतलब है कि पतंजलि देश की राजधानी नई दिल्ली में पहले से ही यूपीएससी की

2.40 लाख में प्लॉट जयपुर: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में Call:09314166166

MUST WATCH & SUBSCRIBE

सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी पिछले कई सालों से करवा रहा है और सैंकड़ों सफल नतीजे दे चुका है। 

sanjeevni app

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended