संजीवनी टुडे

मिश्रा के बयान पर पलटवार करते हुए सलूजा ने कहा- भाजपा को किसानों को लेकर मोदी सरकार को कोसना था

इनपुट- यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 02-12-2019 21:09:04

सलूजा ने पलटवार करते हुए कहा कि किसानों को लेकर जिन मुद्दों पर केंद्र की मोदी सरकार को इन्हें कोसना था, उन मुद्दों पर राज्य की कांग्रेस सरकार को असत्य कोस रहे है।


भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव व पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि किसानों को लेकर जिन मुद्दों पर केंद्र की मोदी सरकार को इन्हें कोसना था, उन मुद्दों पर राज्य की कांग्रेस सरकार को असत्य कोस रहे है।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​मौसम विभाग ने 24 घंटों में हल्की बारिश और कोहरा छाने की दी चेतावनी

सलूजा ने पत्रकारों को बताया कि भार्गव व मिश्रा खाद-यूरिया को लेकर कांग्रेस सरकार पर आरोप लगा रहे हैं। जबकि वास्तविकता यह है कि केंद्र की मोदी सरकार ने 18 लाख मीट्रिक टन यूरिया की राज्य सरकार द्वारा मांग किए जाने के बावजूद उसमें 2 लाख 60 हजार मिट्रीक टन की कटौती कर, 15 लाख 40 हजार मैट्रिक टन की ही आपूर्ति करने का निर्णय लिया है। जिसके कारण किसानों को थोड़ी बहुत परेशानियां आ रही हैं। लेकिन कमलनाथ सरकार द्वारा समय पर यूरिया का पर्याप्त भंडारण करने व वितरण की पर्याप्त व्यवस्था करने के कारण प्रदेश का किसान परेशान नहीं हो रहा है। उन्हें पर्याप्त यूरिया मिल रही है।

उन्होंने कहा कि भार्गव व मिश्रा को तो आज अपनी केंद्र सरकार को यूरिया की कमी को लेकर कोसना चाहिए था ना कि राज्य की कमलनाथ सरकार को।

उन्होंने कहा कि भार्गव कह रहे हैं कि राज्य की कमलनाथ सरकार ने किसानों को राहत के रूप में एक रूपया भी अभी तक नहीं दिया है। बेहतर होगा वे प्राकृतिक आपदा से प्रभावित किसानों के पास जाकर अपनी जानकारी बढ़ाएं कि केंद्र सरकार से मांगे जाने के बावजूद 6621 करोड़ में से मात्र 1000 करोड रुपए की राशि मिलने के बावजूद राज्य सरकार ने अपने मद से किस प्रकार किसानों को अभी तक राहत पहुंचाई है। उन्होंने कहा कि 21 लाख किसानों का कर्ज प्रदेश सरकार ने अभी तक माफ कर दिया है और अगले चरण में 12 लाख 50 हजार किसानों की कर्ज माफी की प्रक्रिया चालू है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के 15 वर्ष के शासनकाल में एक रुपए का कर्ज किसी भी किसान का माफ नहीं किया है और कर्ज माफी की घोषणा अपने घोषणापत्र में कर पलट गए। जो किसानों को अपनी सरकार में खेती छोड़ने की सलाह देते थे, जिनके कार्यकाल में खेती घाटे का धंधा बन चुकी थी, वह किस मुंह से आज यह सवाल उठा रहे हैं।

सलूजा ने बताया कि किसानों की बात वह लोग कर रहे हैं, जिन्होंने अपना हक मांग रहे किसानों के सीने पर गोलियां तक दागी, उनके कपड़े उतार कर जेल में डाला और यूरिया के लिए घंटों लाइन में खड़ा करवा कर डंडे से पिटाई तक करवायी, वह लोग आज किसानों की बातें कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने कर्ज माफी का निर्णय अपने बलबूते पर लिया ना कि केंद्र सरकार से किसी सहायता मिलने के एवज में।

उन्होंने बताया कि जितने घोटाले भाजपा की 15 वर्ष की सरकार में हुए हैं, एक-एक के घोटाले की कांग्रेस सरकार जांच करवाएगी, उनके दोषियों को सजा तथा पीड़ितों को न्याय दिलवायेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From state

Trending Now
Recommended